HEALTHPalamu

पलामू : पहले दिन 200 हेल्थ वर्कर्स को पड़ेगा कोविशील्ड का टीका, MMCH और चैनपुर CHC से होगी शुरुआत

Palamu :  पलामू जिले में कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी से हो जायेगी. देशस्तरीय टीकाकरण अभियान की लॉन्चिंग के बाद जिले में भी टीकाकरण अभियान की शुरुआत की जायेगी. पहले दिन मेदिनीराय मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एमएमसीएच) एवं चैनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से टीकाकरण की शुरुआत होगी. निर्धारित स्थानों पर सफाई कर्मचारी को पहला टीका पड़ेगा. इसके बाद डॉक्टर को यह टीका दिया जायेगा. इसके साथ ही एमएमसीएच और चैनपुर सीएचसी में चिह्नित 100-100 स्वास्थ्यकर्मियों को कोविशील्ड का टीका पड़ेगा.

इसे भी पढ़ें- COVID-19 : धनबाद में सबसे पहले सफाई कर्मचारी को दी जायेगी वैक्सीन

सफाई कर्मचारी नागेश्वर दुबे को लगेगा पहला टीका, उसके बाद सिविल सर्जन की बारी

मेदिनीराय मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सफाई कर्मचारी नागेश्वर दुबे को पहला कोविशील्ड टीका लगाये जाने के बाद खुद सिविल सर्जन डॉ जॉन एफ कनेडी टीका लगवायेंगे. इसकी जानकारी सिविल सर्जन ने दी. उन्होंने बताया कि टीकाकरण को लेकर पलामू में तैयारी पूरी कर ली गयी है.

डीसी शशि रंजन ने कहा कि टीका पूरी तरह से सुरक्षित है. टीका को लेकर किसी तरह से डरने या घबराने की बात नहीं है. अफवाहों पर ध्यान नहीं दें. उन्होंने कहा कि टीका को लेकर किसी तरीके का भ्रम या अफवाह नहीं फैलायें. टीकाकरण का मुख्य उद्देश्य खतरनाक वायरस के संक्रमण से व्यक्ति को बचाना है, क्योंकि यह टीका सबसे पहले जनस्वास्थ्य की देखभाल में जुटे स्वास्थकर्मियों को ही दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव को लेकर कोविशील्ड टीका सुरक्षा का महत्वपूर्ण हिस्सा तो है ही, इसके साथ अपनी व्यक्तिगत सुरक्षा और सामुदायिक संक्रमण की रोकथाम के लिए निरंतर अभ्यास पर भी जोर देना महत्वपूर्ण है.

सिविल सर्जन ने बताया कि टीकाकरण को लेकर जिला वैक्सीन स्टोर से निर्धारित कोल्ड चेन मेंटेन करते हुए कोविशील्ड वैक्सीन को मेदिनीराय मेडिकल कॉलेज अस्पताल एवं चैनपुर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ले जाये जाने की व्यवस्था की गयी है. साथ ही टीकाकरण हेतु निर्धारित स्थल पर 10 व्यक्तियों को जमा होने के बाद वैक्सीन का वायल खोला जायेगा एवं चिह्नित व्यक्तियों का टीकाकरण किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- पलामू : पकौड़ा खाने के बाद एक ही परिवार के छह लोग बीमार, MMCH में भर्ती

कोविन पोर्टल पर रजिस्टर्ड लोगों को ही दिया जायेगा टीका

उन्होंने बताया कि एक वायल में 10 डोज पड़ेंगे. टीका उन व्यक्तियों को दिया जायेगा, जिनका रजिस्ट्रेशन कोविन पोर्टल पर हुआ है. टीकाकरण हेतु जिन लाभार्थियों का रजिस्ट्रेशन हुआ है, उन्हें एसएमएस के माध्यम से आवंटित साइट और समय की जानकारी दी गयी है. साथ ही चिह्नित लाभार्थियों को फोन के माध्यम से भी टीकाकरण के लिए संबंधित स्थल पर पहुंचने हेतु सूचना दी गयी है. लाभार्थी को टीकाकरण हेतु आधार कार्ड या अन्य पहचान पत्र लेकर आना अनिवार्य है.

टीम रखेगी विशेष ध्यान

टीकाकरण हेतु टीम का गठन किया गया है, जिसके सदस्यों द्वारा लाभार्थियों पर विशेष ध्यान दिया जायेगा. इसके लिए प्रवेश द्वार पर लाभार्थी के पंजीकरण की जांच फोटो आईडी सत्यापन और वैक्सीन प्रोटोकोल सुनिश्चित कराया जायेगा. वहीं, कोविन सिस्टम में दस्तावेज को प्रमाणित कर सत्यापित किया जायेगा. इसके बाद उन्हें प्रतीक्षा रूम में टीकाकरण हेतु प्रतीक्षा करनी होगी. नंबर आने पर उन्हें टीकाकरण कक्ष में ले जाया जायेगा और वहां वैक्सीनेटर लाभार्थी को टीका लगाने और एईएफआई का प्रबंधन करना सुनिश्चित करेंगे.

टीकाकरण के बाद 30 मिनट तक उन्हें ऑब्जर्वेशन रूम में रखा जायेगा. किसी भी प्रतिक्रिया के लिए निगरानी की जायेगी और लाभार्थियों को जरूरी संदेश दिया जायेगा. टीकाकरण के दौरान प्रत्येक निर्धारित स्थान पर एंबुलेंस की व्यवस्था की गयी है, जिसमें मेडिकल टीम लगायी गयी हैं, ताकि किसी भी परिस्थिति से निपटा जा सके.

इन प्रक्रियाओं से गुजरना होगा

कोविशील्ड टीका लेने हेतु निर्धारित स्वास्थ्य केंद्र स्थल पर चिह्नित लाभुक के रजिस्ट्रेशन की जांच होगी, उन्हें मास्क दिया जायेगा. उनके हाथों को सैनिटाइज कराया जायेगा और वे प्रतीक्षा रूम में बैठकर अपनी बारी की तब तक प्रतीक्षा करेंगे, जब तक उनकी बारी नहीं आ जाती है. नंबर आने पर ही वैक्सीनेशन रूम में जायेंगे, जहां उन्हें टीका दिया जायेगा. टीकाकरण के बाद आधे घंटे तक ऑब्जर्वेशन में रखा जायेगा. यदि कोई प्रतिक्रिया होती है, तो तुरंत रिकवरी रूम में ले जाया जायेगा, जहां उनकी जांच कर चिकित्सक द्वारा समुचित इलाज किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- झारखंड के 10 हजार शिक्षकों का वेतन रोकने का फरमान

Related Articles

Back to top button