JharkhandPalamu

पलामू : राजद उम्मीदवार घुरन राम को छोड़ 17 प्रत्याशियों की जमानत हुई जब्त

Palamu : लोकसभा चुनाव 2019 में कई तरह के उतार चढ़ाव सामने आए. एनडीए के आगे महागठबंधन और यूपीए जहां टिक नहीं पाया, वहीं मोदी लहर में कल तक विरोध झेलने वाले सांसद रिकार्ड मतों से चुनाव जीत गए. भाजपा और उसके सहयोगी दलों के विरोध में खड़े कई ऐसे उम्मीदवार भी रहे, जो अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए.

इसे भी पढ़ें – 5 नगर निकायों के 1 लाख आवासों में अतिरिक्त पानी कनेक्शन दे जुडको: सचिव

पलामू में 17 प्रत्याशी नहीं बचा सके जमानत

13 पलामू लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में जहां भाजपा प्रत्याशी बी डी राम ने रिकॉर्ड मतों से चुनाव जीत लिया है. वहीं राजद प्रत्याशी घुरन राम को छोड़ बाकी सभी 17 प्रत्याशियों ने अपनी जमानत गंवा दी है.

इनमें पूर्व सांसद जोरावर राम (7267वोट), बसपा प्रत्याशी और राज्य के पूर्वमंत्री दुलाल भुईयां की पत्नी अंजना भुईयां (53597), माले प्रत्याशी सुषमा मेहता (5004 वोट) भी शामिल हैं.

इन प्रत्याशियों की जमानत हुई जब्त

जिन अन्य प्रत्याशियों ने अपनी जमानत गंवायी है, उनमें भारतीय लोक सेवा दल के अमिन्द्र पासवान (1304) वोट, जन संघर्ष विराट पार्टी के उदय कुमार पासवान (4164 वोट), वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल के उमेश कुमार पासवान (5099), प्राउटिस्ट सर्व समाज के प्रयाग राम (2783 वोट), जयप्रकाश जनतादल के बबन भुइया (2861 वोट), अम्बेदकर नेशनल कांग्रेस के बालकेश प्रसाद पासवान (4121 वोट), कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (माक्र्सवाद-लेनिनवाद) रेड स्टार के मदन राम (2420 वोट), बहुजन मुक्ति पार्टी के श्याम नारायण भुइयां (3093वोट), निर्दलीय दिनेश राम (19491 वोट), राजजी पासवान (1309 वोट), विजय कुमार (13961 वोट), विजय राम (4929 वोट) और सत्येन्द्र कुमार पासवान (9442 वोट) शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – लोकसभा चुनाव में रघुवर की रणनीति मानी जा रही सटीक, लेकिन विस चुनाव में होगा रिपीट टेलीकास्ट, जरूरी…

आठ प्रत्याशियों पर नोटा भारी

पलामू लोकसभा क्षेत्र में जितने वोट नोटा को मिले हैं, उतने कई प्रत्याशियों को भी नहीं मिले हैं. 5808 वोटरों ने नोटा (नन ऑफ द एबभ) का बटन दबाया है. निर्दलीय विजय राम, भाकपा माले प्रत्याशी सुषमा मेहता, बहुजन मुक्ति पार्टी के श्याम नारायण भुईयां, रेड स्टार के मदन राम, अम्बेदर नेशनल कांग्रेस प्रत्याशी बलकेश प्रसाद पासवान, जयप्रकाश जनता दल के बबन भुइयां, प्राउटिस्ट सर्व समाज के प्रयाग राम, वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल के उमेश कुमार पासवान और जनसंघर्ष विराट पार्टी के उदय कुमार पासवान को नोटा से भी कम मत प्राप्त हुए हैं.

कब जब्त होती है जमानत? 

जब कोई प्रत्याशी किसी भी चुनाव क्षेत्र में पड़े कुल वैद्य वोट का छठा हिस्सा हासिल नहीं कर पाता है तो उसकी जमानत राशि जब्त मानी जाती है. पलामू में 12 लाख 9 हजार 747 वैद्य वोट पड़े थे.

और इस लिहाज से जमानत बचाने के लिए प्रत्याशी को कम से कम 201624 वोट हासिल करना जरूरी था. केवल घुरन राम ही इस आंकड़े को पार कर सके. उन्हें 278053 वोट हासिल हुए हैं.

इसे भी पढ़ें – जागरूकता फैला कर ही माहवारी संबधित गलत धारणाओं को दूर किया जा सकता है: आराधना पटनायक

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close