न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: 11 शिक्षक सहित 14 के वेतन वृद्धि और मानदेय पर रोक

1,318

Palamu:  निर्वाचन कार्य में लापरवाही बरतने, लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के नियम तथा आदर्श-आचार संहिता उल्लंघन के आरोप में 11 शिक्षक सहित 14 के वेतन वृद्धि और मानदेय पर रोक लगा दी गयी है. जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त के निर्देश पर पलामू जिले के 11 शिक्षक सहित 14 का एक वेतन वृद्धि और मानदेय पर रोक लगाया गया है.

प्रशिक्षण लेने के बावजूद मतदान कार्य से रहे अनुपस्थित

प्रधानाध्याक, सहायक शिक्षक, पारा शिक्षक, अनुसेवक और चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी पर लोकसभा आम चुव 2019 के सफल संचालन के लिए मतदान कार्य के लिए नियुक्त किया गया था. दायित्वों के निर्वहन के उद्देश्य  से त्रिस्तरीय प्रशिक्षण दिया गया. इन कर्मियों द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त करते हुए उपस्थिति भी दर्ज की गई. इनके बैंक खातों में निर्वाचन आयोग द्वारा चुनाव कार्य हेतु निर्धारित मानदेय की राशि स्थानांतरित की गयी, लेकिन 27 और 28 अप्रैल 2019 को जीएलए कॉलेज परिसर अवस्थित 76-डालटनगंज विधानसभा क्षेत्र के पंडाल में पार्टी क्रमानुसार योगदान देने के निर्देश के बावजूद बिना सूचना या पूर्वानुमति के अनाधिकृत रूप से निर्धारित स्थल पर अनुपस्थित पाये गए. कार्मिक कोषांग के कर्मियों द्वारा खोज किये जाने के बाद भी अनुपस्थित रहे.

चुनाव में भी बरती लापरवाही

यह सब निर्वाचन जैसे अतिमहत्वपूर्ण कार्य में लापरवाही बरती गयी, जो लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के नियमों का तथा सरकारी कर्मी आदर्श-आचार संहिता का स्पष्ट उल्लंघन है. नियम और आदेशों के उल्लंघन के लिए कारण पृच्छा के साथ-साथ चुनाव कार्य हेतु मानदेय भुगतान की गई अग्रिम राशि वापस करने का निर्देश दिया गया था. राशि वापस करते हुए स्पष्टीकरण समर्पित किया गया, जो संतोषजनक नहीं है. असंतोषप्रद स्पष्टीकरण के फलस्वरूप आरोपित मानते हुए उक्त लोगों को दंड दिया गया है.

इनके ऊपर की गयी कार्रवाई

Related Posts

गढ़वा : चाची को प्रेमजाल में फंसा तलाक कराया, शादी का दबाव बनाने पर ट्रक से कुचलकर मार डाला

रिश्ते को शर्मसार करने वाले इस पूरे मामले के आरोपी भतीजे सद्दाम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

SMILE

1 प्रधानाध्यापक, 4 सहायक शिक्षक, 1 पीजीटी शिक्षक, 5 पारा शिक्षक, 1 अनुसेवक, 1 रसोईया और 1 चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी शामिल हैं. इससे संबंधित पत्र कार्मिक कोषांग की ओर से जारी कर दिया गया है. शिक्षकों का असंचयात्मक प्रभाव से एक वेतनवृद्धि स्थगित किया गया है, उनमें ज.उ.वि. पदमा मनातू के प्रधानाध्यापक बसंत कुमार पाठक, गर्ल्स प्रा.वि. सलतुआ, चैनपुर के सहायक शिक्षक मिथलेश कुमार, राम.म.वि. सोहरी खास सतबरवा के सहायक शिक्षक भरदुल कुमार सिंह, हुसैनाबाद के रामवि. देवरीखूर्द के सहायक शिक्षक कृणा राम, हैदरनगर के उ.वि. विलासपुर के सहायक शिक्षक धर्मेन्द्र पाठक, राजकीयकृत बालक प्लस टू उ.वि. मेदिनीनगर के पीजीटी शिक्षक आशीष कुमार दूबे, आर.के.क. प्लस टू उ.वि. पांडू के चतुर्थवर्गीय कर्मचारी राजीव रंजन, जिला कल्याण कार्यालय पलामू की रसोईया प्रभु वृजिया शामिल हैं. इन सबों के असंचयात्मक प्रभाव से एक वेतनवृद्धि स्थगित की गयी है.

इन पारा शिक्षकों के पांच दिन का मानदेय स्थायी रूप से रोका

मोहमदगंज के उ.म.वि. बरधवर के पारा शिक्षक सुरेश प्रसाद मेहता, प्रा.वि. छदीपुर तरहसी के पारा शिक्षक राम परीखा राम, उ.म.वि. भैंसलडीवा, मनातू के पारा शिक्षक बिरेंद्र कुमार यादव,  छतरपुर के न्यू.प्रा.वि. सिरिसिया टोला दिनादाग के पारा शिक्षक अमलेश यादव, उ.म.वि. लोटरा, चनोकर, पांडू के पारा शिक्षक पंकज कुमार सिंह को त्रिस्तरीय प्रशिक्षण अवधि एवं चुनाव कार्य अवधि के लिए पांच दिन का मानदेय स्थायी रूप से अवरूद्ध किया गया है.

इसे भी पढ़ेंः दर्द-ए-पारा शिक्षक: उम्र का गोल्डेन टाइम इस नौकरी में लगा दिया, अब कर्ज में डूबे हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: