न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सहारा क्यू शॉप में फंसा पलामू के निवेशकों का पैसा, राशि लौटाने से इनकार

659

Palamu: सहारा समूह की क्यू शॉप में पलामू जिले के कई निवेशकों का पैसा फंस गया है. निवेशकों का आरोप है कि पॉलिसी मेच्योर होने के बाद भी उन्हें राशि नहीं लौटायी जा रही है. एक-एक निवेशक के तीन-तीन, चार-चार लाख रूपये फंस चुके हैं और ऐसे निवेशकों की संख्या हजारों में हैं. निवेशक जब ‘सहारा’ के स्थानीय शाखा में अपने पैसे वापस लेने के लिए पहुंचते हैं तो शाखा के अधिकारी जमा राशि को दूसरी स्कीम में लगाने के लिए दबाव देते हैं.

निवेशकों में आक्रोश

एक स्थानीय निवेशक ने बताया कि उन्होंने 22 अक्‍टूबर 2012 को निवेश की शुरूआत की थी. अब जब उनकी पॉलिसी मेच्योर हो गयी है, तब भी उनका पैसा वापस नहीं दिया जा रहा है. उनका कहना है कि सहारा के अधिकारी पैसे देने को तैयार नहीं हैं. निवेशकों का आरोप है कि सहारा के कर्ताधर्ता चाहते ही नहीं हैं कि निवेशकों का पैसा वापस हो. वे छोटी-मोटी रकम यानि बीस हजार तक की मेच्योरिटी तो दे देते हैं, लेकिन इससे बड़ी रकम के लिए कह देते हैं कि उसे दोबारा निवेश कर दें. सहारा प्रबंधन द्वारा निवेशकों का पैसा दबाये रखने से निवेशकों में आक्रोश पनपने लगा है.

क्या कहते हैं सहारा के अधिकारी

Related Posts

पलामू : पंचायत के फरमान के बाद आत्महत्या मामले में DSP ने लिया बयान, आरोपियों की खोज में छापामारी तेज

डीएसपी ने मृतक की पत्नी से घटना की पूरी जानकारी ली. साथ ही ग्रामीण संजय प्रजापति, संतोष यादव, रामचन्द्र प्रजापति का भी बयान दर्ज किया.

SMILE

पलामू जिले में कार्यरत सहारा क्यू शॉप के सीनियर फील्ड ऑफिसर से जब इस संबंध में बात की गयी, तो उन्होंने स्वीकार किया कि क्यू शॉप के निवेशकों का भुगतान नहीं हो रहा है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि इसमें सहारा समूह दोषी नहीं है. उन्होंने बताया कि सहारा समूह द्वारा देश स्तर पर 20 हजार करोड़ रुपये ‘सेबी’ को दे दिया गया है और निवेशकों का भुगतान सेबी द्वारा ही किया जाना है. एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि पलामू जिले  में 8-10 हजार क्यू शॉप के निवेशक हैं. इनमें से किसी एक को भी सेबी ने अबतक भुगतान किया है, यह उनके संज्ञान में नहीं है.

इसे भी पढ़ें: छत्तरपुर में माइंस संचालक से अपराधियों ने मांगी 20 लाख की रंगदारी, दहशत

इसे भी पढ़ें: टीवीएनएल में गहराया वित्तीय संकट, नवंबर में 55 करोड़ की बिजली ली, दिया सिर्फ सात करोड़

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: