न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाक का भारत को झटकाः आंतकी हाफिज सईद की पार्टी JuD और FIF प्रतिबंधित संगठनों की सूची से बाहर

नई सरकार के बनने के बाद पूर्व राष्ट्रपति का अध्यादेश निष्प्रभावी

41

Islamabad: मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद नीत जमात-उद-दावा (जेयूडी) और फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) पाकिस्तान में प्रतिबंधित संगठनों की सूची से अब बाहर हो गए है. मीडिया में आई एक खबर के मुताबिक इन संगठनों को संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव के तहत प्रतिबंधित करने वाला राष्ट्रपति द्वारा जारी अध्यादेश निष्प्रभावी हो गया जिसके बाद वे अब इस सूची से बाहर हो गए हैं. ज्ञात हो कि मुंबई में 26/11 के आतंकी हमले का जिम्मेवार हाफिज सईद और उसके संगठन के इस सूची से हटने से भारत को झटका लगा है.

इसे भी पढ़ेंःCBI विवाद पर ‘सुप्रीम’ सुनवाई: दो हफ्ते में जांच पूरी करे सीवीसी, SC करेगी निगरानी

दरअसल, इस साल फरवरी में पूर्व राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने जमात-उद-दावा और एफआईएफ को प्रतिबंधित समूह घोषित करने के लिए आतंकवाद निरोधी अधिनियम, 1997 को संशोधित करते हुए अध्यादेश लागू किया था.

hosp3

प्रतिबंध की अवधि नहीं बढ़ाई गई

‘डॉन’ अखबार की खबर के मुताबिक, हाफिज सईद द्वारा इस्लामाबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी. इस याचिका पर बृहस्पतिवार को सुनवाई के दौरान उसके वकील ने न्यायालय को सूचित किया कि नई सरकार बनने के बाद से राष्ट्रपति द्वारा जारी अध्यादेश निष्प्रभावी हो गया है. और उसकी अवधि को कभी नहीं बढ़ाया गया. इस पर जज ने कहा कि सईद की याचिका को कोई मतलब नहीं है क्योंकि अध्यादेश को सरकार के द्वारा बढ़ाया नहीं गया है. उल्लेखनीय है कि याचिकाकर्ता ने उस अध्यादेश को चुनौती दी थी, जिसके तहत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् की निगरानी सूची में शामिल करने के लिए उसके संगठनों को प्रतिबंधित किया गया.

इसे भी पढ़ेंःराज्य प्रशासनिक सेवा के 420 पोस्ट खाली, 25 अफसरों पर गंभीर आरोप, 07 सस्पेंड, 06 पर डिपार्टमेंटल प्रोसिडिंग, 05 पर दंड अधिरोपण

खबर में बताया गया कि सईद ने याचिका में तर्क दिया कि उसने 2002 में जमात-उद-दावा को स्थापित किया था. और प्रतिबंधित संगठन लश्कर-ए-तैयबा के साथ सारे संबंध खत्म कर लिए थे. लेकिन प्रतिबंधित संगठन के साथ पूर्व में उसके संबंध को लेकर भारत जेयूडी की लगातार निंदा करता रहता है.

इसे भी पढ़ें – अब पाकुड़ की जनता कह रही कैसे डीसी के संरक्षण में हो रहा है अवैध खनन, सवालों पर डीसी चुप

ज्ञात हो कि भारत पाकिस्तान पर निरंतर दबाव बना रहा है कि नवंबर 2008 के मुंबई हमलों के साजिशकर्ताओं को कानून के समक्ष लाया जाए. सईद लश्कर-ए-तैयबा का सह-संस्थापक है जो उस हमले के लिए जिम्मेदार है. जिसमें 166 लोग मारे गए थे. पाकिस्तान सरकार ने यूएन सुरक्षा परिषद के द्वारा लिस्टेड आतंकी और आतंकी समूहों को फंड देने से इनकार कर दिया था.

वही यूएनएससी ने अल-कायदा, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, लश्कर-ए-झांगवी, जमात-उद-दावा, एफआईएफ और लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकी संगठनों को प्रतिबंधित सूची में शामिल किया है. यूएन ने हाफिज सईद की इन दोनों पार्टियों जमात-उद-दावा और एफआईएफ को वैश्विक आतंकी संगठन घोषित कर चुकी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: