Khas-KhabarWorld

370 पर पाकिस्तान की नई चाल, अब यूएनएससी की आपात बैठक की मांग की

Islamabad: कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. लगातार दूसरे देशों से वो इस मामले में हस्ताक्षेप और मदद की गुहार लगा रहा है. अब पाकिस्तान ने अपने गिड़गिड़ाहट जारी रखते हुए यूएनएससी की बैठक की मांग की है.

इसे भी पढ़ेंःढ़ुल्लू तेरे कारण: कोयला लोडिंग बंद होने से बिगड़ रही मजदूरों की स्थिति, कैंसर-हर्ट के मरीज नहीं खरीद पा रहे दवा

यूएनएससी बैठक की मांग

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने मंगलवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के भारत के कदम पर चर्चा करने के लिए पाकिस्तान ने औपचारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक आयोजित करने की मांग की है.

एक वीडियो संदेश में कुरैशी ने कहा कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) अध्यक्ष को एक बैठक आयोजित करने के संबंध में यूएनएससी में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मालेहा लोधी के जरिए एक औपचारिक पत्र लिखा है. कुरैशी ने कहा कि यह पत्र यूएनएससी के सभी सदस्यों के साथ साझा किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान कश्मीर में भारत के कदम को क्षेत्रीय शांति के लिए खतरा समझता है.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद : विधानसभा चुनाव को लेकर बढ़ी राजनीतिक सरगर्मी, सिंह मेंशन व रघुकुल की विरासत संभालेंगी बहूएं

मुस्लिम जगत का समर्थन पाना आसान नहीं है

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अपने देशवासियों को मुगालते में नहीं रहने की बात करते हुए कहा कि कश्मीर पर भारत के फैसले के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और मुस्लिम जगत का समर्थन हासिल करना पाकिस्तान के लिए आसान नहीं होगा.

कुरैशी ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुजफ्फराबाद में मीडिया से कहा कि पाकिस्तानियों को यूएनएसी सदस्यों का समर्थन हासिल करने के लिए नया संघर्ष शुरू करना होगा.

किसी मुस्लिम देश का नाम लिये बगैर कुरैशी ने कहा, ‘उम्मा (इस्लामी समुदाय) के संरक्षक भी अपने आर्थिक हितों के कारण कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का समर्थन नहीं कर सकते हैं.’

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को समाप्त किये जाने संबंधी भारत के फैसले के बाद पाकिस्तान ने कहा था कि वो नई दिल्ली के फैसले के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद जायेगा.

जबकि भारत लगातार यह बताता आ रहा है कि संविधान के अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने का कदम उसका आंतरिक मामला है.

इसे भी पढ़ेंःजमशेदपुर की हवा में सामान्य से 6 गुना ज्यादा जहर, औसत आयु चार साल घटी

Advt

Related Articles

Back to top button