Lead NewsNationalWorld

पाकिस्तानी PM Imran Khan की कुर्सी खतरे में, 3 अप्रैल को होगी अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग

PPP अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने कहा, इमरान को इज्जत से कुर्सी छोड़ देनी चाहिए

New Delhi : पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर बहस शुरू होने से पहले ही नेशनल असेंबली (संसद) को 3 अप्रैल तक स्थगित कर दिया गया. अब 3 अप्रैल को ही अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग होगी. वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इमरान ने विपक्ष को अविश्वास प्रस्ताव वापस लेने के बदले नेशनल असेंबली भंग करने की पेशकश की है.

इसे भी पढ़ें:मानहानि केस में खुद के जाल में ही फंसे Salman Khan, NRI पड़ोसी के सबूतों को कोर्ट ने माना सही

अविश्वास प्रस्ताव का सामना करें

Catalyst IAS
ram janam hospital

इस प्रस्ताव पर पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज का कहना है कि इमरान खान मुल्क के मुजरिम हैं. उन्हें बैकडोर से भागने की इजाजत नहीं दी जाएगी. पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो का कहना है कि इमरान को इज्जत से कुर्सी छोड़ देनी चाहिए. अगर वो इसके लिए तैयार नहीं हैं तो अविश्वास प्रस्ताव का सामना करें.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें:Hollywood की Die Hard सीरीज के स्टार एक्शन हीरो Bruce Willis को हुई गंभीर बीमारी, छोड़नी पड़ी ऐक्टिंग

अगले 48 घंटे पाकिस्तान के लिए काफी अहम

पाकिस्तान के गृहमंत्री शेख रशीद का कहना है कि अगले 48 घंटे काफी ज्यादा अहम हैं. इन 48 घंटे में राजनीतिक हालात एक नया मोड़ ले सकते हैं. उन्होंने देश को शनिवार की रात तक इंतजार करने के लिए कहा है. मंगलवार को PTI सांसदों को लिखे एक लेटर में इमरान ने कहा- नेशनल असेंबली के सभी सदस्य वोटिंग से दूर रहेंगे या वोटिंग के दिन असेंबली की बैठक में शामिल नहीं होंगे.

इसे भी पढ़ें:Rural Development in Jharkhand: केंद्र से राज्य को मिले 12 हजार करोड़

विपक्षी गठबंधन ने शाहबाज शरीफ को बनाया पीएम पद का उम्मीदवार

सोमवार को विपक्षी गठबंधन पाकिस्तान डेमोक्रेटिक फ्रंट (PDM) ने पूर्व PM नवाज शरीफ के भाई शाहबाज शरीफ को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया था.

अविश्वास प्रस्ताव पर आज होगी बहस

पाकिस्तान में चल रहे सियासी घमासान के बीच आज नेशनल असेंबली में इमरान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर बहस होगी. इसके बाद 3 अप्रैल को वोटिंग के दौरान स्थिति साफ होगी कि पाकिस्तान में इमरान PM की पिच पर बने रहेंगे या आउट हो जाएंगे.

इसे भी पढ़ें:मानहानि केस में खुद के जाल में ही फंसे Salman Khan, NRI पड़ोसी के सबूतों को कोर्ट ने माना सही

सीक्रेट लेटर सार्वजनिक करने पर हाई कोर्ट की रोक

इमरान के सीक्रेट लेटर पर चल रहे विवाद के बीच बुधवार को इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने चिट्ठी को सार्वजनिक करने पर रोक लगा दी. हालांकि, इस फैसले के पहले ही इमरान ये लेटर देश के चुनिंदा पत्रकारों और पार्टी के लोगों के साथ साझा कर चुके हैं. इससे पहले PM खान ने कहा था कि विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ये चिट्ठी संसद में पेश करेंगे.

इसे भी पढ़ें:जमशेदपुर की रहने वाली NIT पटना की छात्रा अदिति को फेसबुक ने दिया 1.6 करोड़ का पैकेज

Related Articles

Back to top button