Court NewsCrime NewsLead NewsWorld

मुंबई में हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पाकिस्तानी कोर्ट ने सुनाई दस साल की सजा

हाफिज के संगठन जमात-उद-दावा पर टेरर फंडिंग का आरोप साबित हुआ

Lahore: मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को 10 साल की सजा हुई है. पाकिस्तान की एंटी टेरिरज्म कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है. सईद के संगठन जमात-उद-दावा पर भी टेरर फंडिंग का आरोप लगा है. अदालत ने इससे पहले सईद के करीबी माने जाने वाले जमात उद दावा के प्रवक्ता याह्या मुजाहिद को 32 साल की सजा सुनायी है. उस पर टेरर फंडिंग में पैसे के लेन देन का आरोप था. इस मामले में दो और आतंकी नेताओं को दोषी बताया गया है.

इसे भी पढ़ें:मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के काफिले की ऑडी और स्कॉर्पियो गाड़ियां आपस में टकारायीं

जमात उद दावा के नेताओं के खिलाफ 41 मामले हैं दर्ज

Catalyst IAS
ram janam hospital

हाफिज सईद के खिलाफ चार मामलों में अबतक फैसला आ चुका है. टेरर फंडिंग मामले में संगठन के नेताओं के खिलाफ 41 मामले दर्ज हैं जिसमें अबतक 24 पर अदालत ने अपना फैसला ले दिया है. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार गुरुवार को लाहौर की एंटी टैरिरिज्म कोर्ट ने जमात उद दावा के प्रमुख हाफिज सईद समेत आतंकी संगठन के कुछ नेताओं को सजा सुनायी है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें:BJP ने पूछा, ऑडियो क्लिप मामले में NIA जांच की अनुशंसा करने से क्यों भाग रही राज्य सरकार?

भारत ने मोस्ट वांटेंट आतंकियों में  किया है शामिल

हाफिज सईद भारत में मोस्ट वांटेंट आतंकियों में एक है. पाकिस्तान को भारत सरकार ने इसके खिलाफ पहले भी बहुत सारे सबूत दिये हैं लेकिन पाकिस्तान हर बार हाफिज पर हाथ डालने से बचता रहा है. साल 2008 में हुए आतंकी हमले में हाफिज के इशारे पर 10 आंतकियों ने मिलकर मुंबई में 166 लोगों को मार डाला था. इस हमले में बहुत सारे लोग घायल हुए थे.

इसे भी पढ़ें:पद्मश्री से सम्मानित संथाली भाषा के विद्वान प्रो. दिगंबर हांसदा नहीं रहे

भारत इस हमले में हाफिज को लेकर पाकिस्तान को लगातार सबूत भेजता रहा है. पाकिस्तान ने हर बार सबूत पर कार्रवाई करने से इनकार करते हुए कहा है कि सबूत काफी नहीं थे. हाफिज सईद को संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका ने पहले ही ‘वैश्विक आतंकी’ घोषित कर दिया है. सईद को लेकर पाकिस्तान पर दबाव बढ़ा जिसके बाद इसे पिछले साल जुलाई में टेरर फंडिंग मामले में गिरफ्तार किया गया था.

इसे भी पढ़ें:साइबर क्राइम के गढ़ जामताड़ा की ये अच्छी बात नहीं जानते होंगे आप!

Related Articles

Back to top button