न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने का विरोध नहीं करेगा पाकिस्तान?

पुलवामा हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खुद के आतंकी देश की छवि और मजबूत होने से परेशान पाकिस्तान अब मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने का विरोध बंद कर सकता है.

78

Islamabad :  सुरक्षा परिषद में जैश-ए-मोहम्मद के सरकगना मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित किये जाने की संभावना बढ़ गयी है.  खबरों के अनुसार पुलवामा हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खुद के आतंकी देश की छवि और मजबूत होने से परेशान पाकिस्तान अब मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने का विरोध बंद कर सकता है.  यदि ऐसा हुआ तो भारत के लिए यह बीते कुछ सालों की सबसे बड़ी कूटनीतिक जीत होगी. बता दें कि भारत आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान को दुनिया भर में अलग-थलग करने में जुटा हुआ है.  एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान जैश-ए-मोहम्मद समेत तमाम प्रतिबंधित संगठनों को लेकर निर्णायक फैसला ले सकता है. इस क्रम में वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव के विरोध से भी पीछे हट सकता है. बता दें कि अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने संयुक्त रूप से यूएन सुरक्षा परिषद में अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने का प्रस्ताव पेश किया गया है. यदि इस प्रस्ताव को सुरक्षा परिषद से मंजूरी मिलती है तो उस पर ट्रैवल बैन लगने के साथ ही दुनिया के तमाम देशों में उसकी संपत्ति भी फ्रीज हो जायेगी. यही नहीं हथियारों तक उसकी पहुंच भी मुश्किल होगी.

पाकिस्तान के अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने एक रिपोर्ट में एक सीनियर सुरक्षा अधिकारी के हवाले से लिखा,  पाकिस्तान सरकार बड़ा नीतिगत फैसला लेते हुए प्रतिबंधित संगठनों पर निर्णायक कार्रवाई कर सकती है.  इनमें जैश-ए-मोहम्मद भी शामिल है. अभी यह स्पष्ट नहीं है कि पाकिस्तान अजहर के खिलाफ क्या ऐक्शन ले सकता है, लेकिन इस बात के संकेत मिल रहे हैं कि उसे ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के प्रस्ताव का विरोध खत्म किया जा सकता है.  गौरतलब है कि पुलवामा अटैक की जिम्मेदारी मसूद अजहर के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ही ली थी.

इसे भी पढ़ें – बड़ी खबर : आतंकी मसूद अजहर की लिवर कैंसर से मौत, आधिकारिक पुष्टि नहीं

प्रस्ताव को लाने वाले अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के पास परिषद में वीटो पावर

Related Posts

अमेरिका-चीन ट्रेड वार चरम पर,  ट्रंप ने कहा, हमें चीन की जरूरत नहीं, अमेरिकी कंपनियां चीन छोड़ें

पार युद्ध पहले ही अमेरिका की प्रगति की गति कम कर चुका है और वैश्विक अर्थव्यवस्था को कमजोर किया है  शेयर बाजारों की भी हालात खराब की है.

SMILE

इसके बाद भारत ने 26 फरवरी को पाकिस्तान की सीमा में घुसकर बालाकोट स्थित जैश के आतंकी ठिकाने पर एयर स्ट्राइक की थी.  भारत के इस फैसले को अमेरिका समेत कई बड़े देशों ने आत्मरक्षा में उठाया कदम बताया था. वैश्विक परिदृश्य में इन हालातों के चलते ही पाकिस्तान खुद को घिरा महसूस कर रहा है।  पाकिस्तान के पीछे हटने के सवाल पर एक अधिकारी ने कहा, सरकार को यह तय करना होगा कि कोई एक व्यक्ति महत्वपूर्ण है या फिर राष्ट्र का हित.  बीते 10 साल में यह चौथा मौका है, जब मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने का प्रस्ताव सुरक्षा परिषद में पेश किया गया है.  15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र परिषद में अगले 10 दिनों में अजहर मसूद को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के प्रस्ताव पर फैसला हो सकता है.  इस प्रस्ताव को लाने वाले तीनों देशों, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के पास परिषद में वीटो पावर है.

इसे भी पढ़ें –कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह को पाकिस्तान के बालाकोट में हुई सर्जिकल स्ट्राइक के  सबूत चाहिए  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: