Lead NewsNationalWorld

पैगंबर विवाद में भारत को कोसने वाला पाकिस्‍तान अब अपने ही बच्‍चों पर ढा रहा है जुल्‍म, चीन के लिए बलूच मुस्लिमों को कर रहा अगवा

Islamabad : पैगंबर विवाद पर भारत को कोसने वाला पाकिस्‍तान अब अपने ही बच्‍चों को चीन के दबाब में अगवा कर रहा है. पाकिस्‍तानी सेना लगातार बलूच मुस्लिम छात्रों का अपहरण कर रही है. यहां तक की छात्रों ने जब कराची यूनिवर्सिटी से दो बलूच स्‍टूडेंट के गायब होने के विरोध में सिंध विधानसभा के बाहर प्रदर्शन किया तो पुलिस ने उनके साथ बद से बत्तर व्यवहार किया. पुलिसकर्मी सोमवार को 28 प्रदर्शनकारी स्‍टूडेंट्स को उठा ले गए जिसमें लड़कियां भी शामिल थीं.

बता दें कि पाकिस्‍तान के मानवाधिकार आयोग ने कराची यूनिवर्सिटी में बलूच स्‍टूडेंट्स के लगातार हो रहे अपहरण और उनके साथ दुर्व्‍यहार की कड़ी निंदा की है.

पाकिस्‍तान में बलूचों के बढ़ते हमले से घबराई सरकार अब छात्रों को निशाना बना रही है. पाकिस्‍तानी सेना और आईएसआई की तरफ से बलूच युवाओं का अपरहण कर लिया जाता है और फिर उनके साथ अमानवीय व्‍यवहार किया जाता है. मानवाधिकार आयोग ने सिंध पुलिस के बड़े पैमाने पर ताकत का प्रयोग करने की भी आलोचना की.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढें:INDIAN RAILWAY : यात्रीगण कृपया ध्यान दें ! नॉन इंटरलॉकिंग के कारण रेल सेवा प्रभावित, टाटानगर से ये ट्रेन रद्द

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

चीनी नागरिकों की हत्‍या के बाद पुलिस कर रही बलूचों का अपहरण

मानवाधिकार आयोग ने कहा कि पुलिस ने हिंसा का इस्‍तेमाल करके इस प्रदर्शन को जबरन खत्‍म कराया. दरअसल, कराची यूनिवर्सिटी के दो छात्र डोडा बलोच और घमशाद बलोच का उनके घर के पास से 7 जून को अपहरण कर लिया गया था. बताया जा रहा है कि पाकिस्‍तान की सुरक्षा एजेंसियों ने इन बलूच बच्‍चों का अपहरण किया था. काफी विरोध के बाद ये बच्‍चे अब घर लौट आए हैं. इनके परिवारवालों और सिविल सोसायटी के लोगों ने कराची प्रेस क्‍लब के बाहर एक शिविर बनाया था.

दरअसल, गत 26 अप्रैल को एक बलूच आत्‍मघाती महिला बम हमलावर ने कराची यूनिवर्सिटी में एक मिनीबस को निशाना बनाया था. इसमें चीनी भाषा पढ़ाने वाले चीन के 3 शिक्षकों की मौत हो गई थी.

इसे भी पढें:शहीद गणेश हांसदा के गांव नहीं आये सीएम, प्रतिमा का अनावरण करने पहुंचे चंपई तो परिजनों ने किया इनकार, लौटे मंत्री-विधायक

इस हमले की जिम्‍मेदारी बलूच लिबरेशन आर्मी के माजिद ब्रिगेड ने ली थी. इसके बाद चीन की कार्रवाई के दबाव में पूरे पाकिस्‍तान में बलूचों और उनके समर्थकों का अपहरण होने लगा है.

इनमें से कई लोगों का अपहरण कराची से किया गया. अब इन अपहरणों का स्‍टूडेंट विरोध कर रहे हैं जिसको पाकिस्‍तान की पुलिस ताकत के बल पर कुचल रही है.

पैगंबर विवाद पर भारत को कोसने वाला पाकिस्तान चिन के दबाव में अपने ही बच्चों को अगवा कर विश्व के सामने अपना चेहरा बेनकाब कर रहा है.

इसे भी पढें:राहुल गांधी की याचिका पर 27 जून को HC में होगी अगली सुनवाई

Related Articles

Back to top button