National

Pok पर विदेश मंत्री जयशंकर के बयान से बौखलाया पाकिस्तान, अंतरराष्ट्रीय समुदाय से संज्ञान लेने का आग्रह

विज्ञापन

New Delhi: विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर (पीओके) भारत का हिस्सा है और उम्मीद करते हैं कि एक दिन भारत के भौतिक अधिकार क्षेत्र में होगा.

इधर पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से पाक अधिकृत कश्मीर पर भारत के बयान को गंभीर संज्ञान लिये जाने का आह्वान किया.

इसे भी पढ़ेंःपलामू: वज्रपात से छह की मौत, छह दिन में 14 मरे

advt

क्या कहा एस जयशंकर प्रसाद ने

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में विदेश मंत्री के तौर पर कार्यभार संभालने के बाद अपने पहले संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए विदेश मंत्री ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि भारत ‘पड़ोस प्रथम’ की नीति को आगे बढ़ा रहा है.

लेकिन उसके समक्ष एक पड़ोसी की ‘अलग तरह की चुनौती’ है और यह तब तक चुनौती रहेगी जब तक वह सामान्य व्यवहार नहीं करता और सीमापार आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई नहीं करता.

इसे भी पढ़ेंः13 माह का वेतन देने के सरकार के फैसले से नाराज हैं, हमें लिखें

विदेश मंत्री ने इसके साथ ही यह भी कहा कि एक सीमा के बाद इस बात की चिंता करने की जरूरत नहीं है कि कश्मीर पर लोग क्या कहेंगे, क्योंकि यह भारत का आंतरिक मामला है और अपने आंतरिक मामलों में भारत की स्थिति मजबूत रही है और मजबूत रहेगी.

adv

विदेश मंत्री ने पाकिस्तान को साफ कर दिया कि मुद्दा अनुच्छेद 370 का नहीं है, बल्कि मुद्दा सीमा पार आतंकवाद का है और किसी तरह की बातचीत के लिये वार्ता की मेज पर पहला विषय आतंकवाद का होगा.

कुछ केंद्रीय मंत्रियों के इस बयान के बारे में पूछे जाने पर कि अब वार्ता सिर्फ पीओके पर होगी, न कि कश्मीर पर तो उन्होंने कहा, ‘ पीओके पर हमारा रुख रहा है और हमेशा रहेगा कि यह भारत का हिस्सा है और हम उम्मीद करते हैं कि एक दिन यह हमारे भौतिक अधिकार क्षेत्र में होगा.’

अपने 75 मिनट के संवाददाता सम्मेलन में जयशंकर ने भारत के दूसरे देशों के साथ संबंध, अमेरिका के साथ रणनीतिक संबंधों और चीन के साथ रिश्तों और वैश्विक मंच पर भारत की हैसियत समेत विभिन्न मुद्दों पर बात रखी.

बयान पर बौखलाया पाकिस्तान

इधर पाकिस्तान ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को भारत के भौतिक अधिकार क्षेत्र में लिये जाने के बारे में भारत के आक्रामक तेवर का गंभीर संज्ञान लिये जाने का अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आह्वान करते हुए कहा कि भारत से इस तरह के ‘‘गैर जिम्मेदाराना और उग्र’’ बयानों से तनाव और बढ़ेगा और इन बयानों से क्षेत्र में शांति और सुरक्षा को गंभीर खतरा पैदा होगा.

गौरतलब है कि सरकार का कहना रहा है कि पाकिस्तान से अब बातचीत पीओके पर होगी और कश्मीर पर नहीं होगी. ऐसा बयान उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह आदि भी पहले दे चुके हैं.

इसे भी पढ़ेंः‘मैं प्लास्टिक मैन हूं, मै अमर हूं, पूरी दुनिया को निगल जाउंगा’

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button