न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकिस्‍तान है गधों का तीसरा सबसे बड़ा देश, पहले नंबर पर चीन

99

Lahore: पाकिस्‍तान दुनिया का तीसरा ऐसा देश बन गया है, जहां पर गधों की आबादी सबसे ज्‍यादा है. पाकिस्‍तान में गधों की संख्‍या बढ़कर पांच मिलियन यानी 50 लाख के भी पार पहुंच गई है. सिर्फ इतना ही पंजाब प्रांत का लाहौर ऐसी जगह है जहां पर गधों की आबादी सबसे ज्‍यादा है. पाकिस्‍तान इकोनॉमिक सर्वे 2017-2018 की ओर से दी गयी. जानकारी के मुताबिक गधों की संख्‍या 100,000 से बढ़कर 53 लाख पर पहुंच गयी है. पाकिस्‍तान के जियो न्‍यूज की ओर से इस बात की जानकारी दी गयी है.

डंकी अस्‍पताल में होता है गधों का मुफ्त इलाज

पंजाब लाइवस्‍टॉक डिपार्टमेंट के मुताबिक लाहौर में 41,000 गधे हैं और इनकी संख्‍या में लगातार इजाफा हो रहा है. पंजाब की सरकार ने गधों के लिए अस्‍पताल भी खोले हैं और यहां पर इनका मुफ्त इलाज किया जाता है. लाहौर में दिन पर दिन गधों का बिजनेस बढ़ रहा है और कीमतों में भी खासी तेजी आई है. लाहौर में एक गधा 35,000 से 55,000 की कीमत पर मिलता है. गधे के मालिक को एक दिन में 800 से 1000 रुपए तक की कमाई आसानी से हो जाती है. पाकिस्‍तान इकोनॉमिक सर्वे के आंकड़ें अप्रैल में जारी हुए थे.

पाकिस्‍तान में बड़े काम का गधा

पाकिस्‍तान में सामान ढोने, गधा गाड़ी और कंस्‍ट्रक्‍शन वाली जगह पर गधे का खासतौर पर प्रयोग होता है. जाने-माने पाक जर्नलिस्‍ट हामिद मीर ने इस पर एक मजेदार वीडियो भी अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है. यह वीडियो लाहौर का है. गधे के एक मालिक ने जियो न्‍यूज से बात करते हुए बताया, ‘यहां पर हमारा गधों का बिजनेस तेजी से आगे बढ़ रहा है. साथ ही साथ इन्‍हें बेचकर हमें अच्‍छा खासा फायदा मिलता है.’ जुलाई में चुनावों के दौरान पाकिस्‍तान में राजनीतिक समर्थकों की वजह से हीरो नाम के एक गधे की मौत हो गई थी. इसके बाद सोशल मीडिया पर एक कैंपेन भी चलाया गया था.

silk

चीन दुनिया का पहला देश

इस लिस्‍ट में चीन पहले नंबर पर तो इथोपिया दूसरे नंबर पर है. चीन में गधों की मांग सबसे ज्‍यादा है और यहां पर गधों की खाल का बिजनेस होता है. इसके अलावा गधे के मीट से हेल्‍थ फूड्स और कइ तरह की परंपरागत दवाईयां भी बनाई जाती है. चीन में गधों का मीट इतना पॉपुलर है कि यहां पर अफ्रीका से गधों को इंपोर्ट किया जा रहा है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: