न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकिस्तान : फैज हमीद आईएसआई के नये चीफ बनाये गये, बेहद कट्टर माने जाते हैं

 सेना से जुड़े कट्टरपंथी विचारधारा के फैज हमीद को आईएसआई का चीफ बनाये  जाने से साफ है कि उसकी पकड़ पाकिस्तानी सत्ता प्रतिष्ठानों पर मजबूत है

28

Islamabad : लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद  पाकिस्तान की  खुफिया एजेंसी आईएसआई के नये चीफ  नियुक्त किये गये  हैं,   उन्हें ले जनरल आसिम मुनीर की जगह पर नियुक्त किया गया है. कट्टर माने जाने वाले फैज हमीद को चुना जाना हैरान करने वाला फैसला बताया जा रहा है.   क्योंकि मुनीर को पद संभाले हुए महज आठ महीने ही हुए थे.  आमतौर पर आईएसआई के चीफ का कार्यकाल तीन साल का होता है.

mi banner add

फैज हमीद पहले भी आईएसआई में काम कर चुके हैं.  पाकिस्तानी सेना की प्रेस विंग ने बयान जारी कर फैसले की जानकारी दी है, लेकिन यह नहीं बताया कि कार्यकाल पूरा होने से पहले ही मुनीर को क्यों हटाया गया.

इसे भी पढ़ें  डॉक्टरों की देश व्यापी हड़ताल, मरीजों की जान सांसत में, सुप्रीम कोर्ट में कल सुनवाई  

आईएसआई के मुखिया का पद खासा ताकतवर माना जाता है

सेना से जुड़े कट्टरपंथी विचारधारा के फैज हमीद को आईएसआई का चीफ बनाये  जाने से साफ है कि उसकी पकड़ पाकिस्तानी सत्ता प्रतिष्ठानों पर मजबूत है. पाकिस्तान में आईएसआई के मुखिया का पद खासा ताकतवर माना जाता है. आईएसआई  पर लंबे समय से आतंकियों को पनाह देने और उनके जरिए भारत के खिलाफ छद्म युद्ध छेड़ने के आरोप लगते रहे हैं. अफगानिस्तान तालिबान और अन्य आतंकी संगठनों के प्रश्रय देने के आरोप भी उस पर लगे हैं.

Related Posts

कर्नाटक में विश्वास प्रस्ताव पर सस्पेंस बरकरार, स्पीकर ने कहा- वोटिंग आज ही होगी

हंगामे के बीच भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि मुख्यमंत्री ने मुझे वादा किया था कि वह विश्वासमत प्रकिया को आज ही संपन्न करायेंगे और बहुमत साबित करेंगे.

यह बेहद आक्रामक फैसला है

जानकारों  के अनुसार  हमीद लंबे समय से आईएसआई में प्रभावशाली रहे हैं.  2017 के अंत में इस्लामाबाद में हुए आंदोलन के गतिरोध को समाप्त करते हुए फैजाबाद अग्रीमेंट कराने में उनकी अहम भूमिका मानी जाती है.  पाकिस्तानी सेना के बिजनस एम्पायर पर एक किताब लिखने वालीं विश्लेषक आएशा सिद्दीका के अनुसार वह बेहद कट्टर हैं. आएशा ने फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा, यह बेहद आक्रामक फैसला है.  इससे यह स्पष्ट संकेत मिलता है कि आर्मी कमजोर नहीं हुई है बल्कि अहम फैसलों में उसका दखल बढ़ ही गया है.

इसे भी पढ़ें –  सिर्फ दो-दो डॉक्टर्स से मिलेंगी ममता बनर्जी, मुलाकात को रिकॉर्ड करने की रखी गयी मांग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: