न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CitizenshipAmendmentBill की निंदा की #Pakistan ने, कहा, हिंदू राष्ट्र की दिशा की ओर बढ़ाया गया कदम  

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने मध्य रात्रि के बाद एक बयान जारी कर कहा, हम इस विधेयक की निंदा करते हैं.  यह प्रतिगामी और भेदभावपूर्ण है

34

Islamabad :  पाकिस्तान ने भारत के नागरिकता संशोधन विधेयक को प्रतिगामी एवं पक्षपातपूर्ण बताते हुए इसे  दिल्ली का पड़ोसी देशों के मामलों में दखल का  दुर्भावनापूर्ण इरादा करार दिया है. जान लें कि सोमवार देर रात लोकसभा ने नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) को मंजूरी दे दी जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से शरणार्थी के तौर पर 31 दिसंबर 2014 तक भारत आये उन गैर-मुसलमानों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान है जिन्हें धार्मिक उत्पीड़न का सामना करना पड़ा हो, उन्हें अवैध प्रवासी नहीं माना जायेगा.

इसे भी पढ़ें : #CitizenshipAmendmentBill : राहुल ने कहा, यह संविधान पर हमला है,  इसका समर्थन करना भारत की बुनियाद को नष्ट करने का प्रयास होगा

Sport House

पड़ोसी देशों में दखल का भारत का दुर्भावनापूर्ण प्रयास

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने मध्य रात्रि के बाद एक बयान जारी कर कहा, हम इस विधेयक की निंदा करते हैं.  यह प्रतिगामी और भेदभावपूर्ण है और सभी संबद्ध अंतरराष्ट्रीय संधियों और मानदंडों का उल्लंघन करता है.  यह पड़ोसी देशों में दखल का भारत का दुर्भावनापूर्ण प्रयास है.

इसमें कहा गया कि इस कानून का आधार झूठ है और यह धर्म या आस्था के आधार पर भेदभाव को हर रूप में खत्म करने संबंधी मानवाधिकारों की वैश्विक उद्घोषणा और अन्य अंतरराष्ट्रीय संधियों का पूर्ण रूप से उल्लंघन करता है.

बयान  के अनुसार लोकसभा में लाया गया विधेयक पाकिस्तान और भारत के बीच हुए दोनों देशों के अल्पसंख्यकों की सुरक्षा और अधिकारों से जुड़े समझौते समेत विभिन्न द्विपक्षीय समझौतों का भी पूर्ण रूप से विरोधाभासी है.भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा में विधेयक पेश करते हुए यह स्पष्ट किया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में किसी भी धर्म के लोगों को डरने की जरूरत नहीं है. उन्होंने जोर देकर कहा था कि इस विधेयक से उन अल्पसंख्यकों को राहत मिलेगी जो पड़ोसी देशों में अत्याचार का शिकार हैं.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें : फारूक अब्दुल्ला की हिरासत पर बोले शाह- कांग्रेस ने 11 साल शेख अब्दुल्ला को जेल में रखा

Related Posts

#Birth_Tourism : गर्भवती महिलाओं के लिए वीजा नियम पर नयी पाबंदी लगायेगा अमेरिका

ऐसी महिलाओं पर बंदिशें लगायी जायेगी, जो महज बच्चों को जन्म देने के लिए अमेरिका जाना चाहती हैं,  ताकि उनके बच्चों को अमेरिकी पासपोर्ट मिल जाये.

पाकिस्तान इसे पूरी तरह से अस्वीकार करता है

विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार की ओर से लाया गया यह विधेयक हिंदू राष्ट्र की अवधारणा को वास्तविक रूप देने की दिशा में एक प्रमुख कदम है, जिस अवधारणा को कई दशकों से दक्षिणपंथी हिंदू नेताओं ने पालापोसा.

कहा गया कि यह विधेयक क्षेत्र में कट्टरपंथी हिंदुत्व विचारधारा और प्रभावी वर्ग की महत्वकांक्षाओं का विषैला मेल है और धर्म के आधार पर पड़ोसी देशों के आंतरिक मामलों में दखल की स्पष्ट अभिव्यक्ति है.  पाकिस्तान इसे पूरी तरह से अस्वीकार करता है.

धर्मनिरपेक्षता के दावों के खोखलेपन को उजागर किया

इसमें कहा गया, भारत का यह दावा भी झूठा है जिसमें वह खुद को उन अल्पसंख्यकों का घर बताता है जिन्हें पड़ोसी देशों में कथित तौर पर उत्पीड़न का सामना करना पड़ रहा है. विदेश मंत्रालय ने कहा कि कश्मीर में भारत की कार्रवाई से 80 लाख लोग प्रभावित हुए है और इससे सरकारी नीतियों का पता चलता है.

वक्तव्य के अनुसार  विधेयक ने लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता के दावों के खोखलेपन को उजागर किया है.  इसके पीछे बहुसंख्यक एजेंडा है और इसने आरएसएस-भाजपा की मुस्लिम विरोधी मानसिकता को विश्व के समक्ष ला दिया है.

इसे भी पढ़ें : #AyodhyaVerdict के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाने पहुंचे इतिहासकार इरफान हबीब, हर्ष मंदर सहित 40 बुद्धिजीवी

SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like