NEWS

दर्दनाकः पलामू में एक घर से एकसाथ उठी तीन अर्थियां, परिजनों की चीत्कार से सिहर उठा रेड़मा

Palamu: पलामू जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के रेड़मा में बुधवार को मातमी सन्नाटा पसरा रहा. एक घर से तीन-तीन अर्थी निकली. इस दौरान परिजनों की चीत्कार से पूरा माहौल गमगीन हो गया. मौके पर भारी भीड़ जमा रही. कुछ लोग इस घटना पर अफसोस जाहिर कर रहे थे, वहीं कुछ परिवार को सांत्वना देते नजर आए. तीनों शवों का एक साथ अंतिम संस्कार किया गया.

बता दें कि पलामू-लातेहार के सीमा पर कोयल-औरंगा नदी के संगम केचकी में मंगलवार की सुबह नहाने के दौरान सात बच्चे डूब गए थे. इनमें से चार ने किसी तरह तैर कर अपनी जान बचायी थी, जबकि तीन नदी की तेज धार में डूब गए थे.

इसे भी पढ़ेंः बाबरी विध्वंस केस: CBI कोर्ट 30 सितंबर को सुनायेगा फैसला, आडवाणी और जोशी भी हैं आरोपी

advt

एक युवक नीरज कुमार का शव घटना के कुछ घंटे बाद बरामद किया गया था, जबकि दो लापता थे. बुधवार की सुबह चियांकी के तेलियाबांध स्थित कोयल नदी तट से दोनों का शव बरामद किया गया. पोस्टमार्टम के बाद दोनों शवों को उनके घर ले जाया गया, जहां सभी के दाह संस्कार के लिए एक साथ शवयात्रा निकाली गयी.  

रोजाना की तरह सुबह घूमने निकले थे तीनों

मरने वालों की पहचान नीरज कुमार (18), सोनू कुमार गुप्ता (17) और अभिनव कुमार उर्फ टोनू (15) के रूप में हुई है. मृतक नीरज के चाचा अश्विनी कुमार गुप्ता ने बताया कि तीनों बच्चे एक ही परिवार के थे. इसमें मेरे दो भाई के और एक मेरा बेटा है. लगभग तीन-चार दिनों से तीनों रोज सुबह 5 बजे घूमने के बहाने से निकल रहे थे.

इसमें सुनील कुमार गुप्ता का पुत्र सोनु कुमार गुप्ता जिला स्कूल में नौंवी कक्षा का छात्र था. अभिनव कुमार पोलपोल स्थित सरस्वती मंगलम विद्यालय में 8वीं क्लास में पढ़ता था. परिजनों ने बताया कि शवों को ढूंढने के लिए ग्रामीणों को पैसे दे रहे थे, लेकिन उन्होंने मानवता दिखाते हुए पैसे लेने से इनकार किया. जब शव देखे गए तो इसकी जानकारी उन्हें और पुलिस को दी. बाद में सदर थाना प्रभारी राकेश कुमार रवि ने शवों को नदी से कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए पीएमसीएच में भेजा.  

adv

इसे भी पढ़ेंः गढ़वा: अवैध हथियार बनाने और बेचने में शामिल सात आरोपी गिरफ्तार

पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है औरंगा-कोयल संगम तट

पलामू व्याघ्र परियोजना क्षेत्र में औरंगा-कोयल संगम तट प्रसिद्ध पर्यटन स्थल के रूप में जाना जाता है. यहां लोग पिकनिक मनाने भी आते हैं. इस स्थान पर औरंगा व कोयल नदी का संगम होता है. ऐसे में यहां नदी की धार काफी तेज हो जाती है.

केचकी हादसे से सबक लेकर सजगता दिखाएं अभिभावकः किशोर

अभिभावक संघ के प्रदेश अध्यक्ष सह अधिवक्ता किशोर कुमार पांडेय ने कहा कि मंगलवार को औरंगा और कोयल नदी के संगम में नहाने के दौरान डूबने से शहर के रेड़मा के तीन युवकों की मौत हो गयी. इस पर वे गहरी संवेदना प्रकट करते हैं. श्री पांडेय ने कहा कि यह बहुत बड़ी घटना है और दुखदाई है. सभी अभिभावकों से आग्रह करते हैं कि वे अपने बच्चों के प्रति जानकारी रखें. बच्चे कहां जाते हैं? क्या करते हैं और इतनी सुबह घर में से निकलकर गंदे पानी में नहाने जाने की क्यों जरूरत पड़ी? इसमें हम सभी की लापरवाही है. संघ इस दुःख की घड़ी में पीड़ित परिवार के साथ है और भगवान से प्रार्थना करता है कि इस विपदा को सहने की शक्ति प्रदान करें. बच्चों की आत्मा को शांति प्रदान करें.

 इसे भी पढ़ेंः भीड़तंत्र का हिंसक चेहरा, अपराधी और उग्रवादी भी हो रहे शिकार

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button