ChaibasaCrime NewsJharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

दर्दनाक : भूख मिटाने के लिए ₹1 चोरी की पिता ने दी सजा इतनी बड़ी, बच्चे की 10 अंगुलियां काटनी पड़ीं

बच्चे के दोनों हाथ को घर में खौलते पानी में डुबो दिया था क्रूर पिता ने

Ranchi :  कभी कभार आदमी गुस्से में ऐसी हरकत कर बैठता है जिसके लिए उसे ताउम्र पछताना पड़ता है. गुस्से में अगर अपने ही पिता ऐसा काम कर बैठे तो ये तकलीफ और भी ज्यादा हो जाती है. ये घटना कुछ यूं थी कि भूख मिटाने के लिए मासूम ने  ₹1 की चोरी की थी. इससे गुस्साये पिता ने बच्चे पर खोलते हुए पानी में डाल दिया था. इस मासूम बच्चे का रांची के अस्पताल में इलाज चला लेकिन बच्चे की हाथ और पैर की अंगुलियों को इतना नुकसान पहुंच गया था कि दोनों हाथों की 10 उंगली चिकित्सकों को काटनी पड़ीं.

इसे भी पढ़ें :रिम्स की व्यवस्था सुधारने में लगे अधिकारी, सुबह-शाम लगा रहे राउंड

क्या है पूरा मामला

Catalyst IAS
ram janam hospital

घटना बीते 15 मई को झारखंड के पश्चिम सिंहभूम जिले के झिंकपानी इलाके के जोड़ापोखर गांव में घटी थी. चिंता बोइपाई के 12 साल के बेटे बुधराम बोइपाई ने भूख मिटाने के लिए घर से एक रुपया चुराया था. इससे उसने दुकान जाकर पावरोटी ख़रीद कर खायी थी.

The Royal’s
Sanjeevani

घर पर जब पिता चिंता बोइपाई को पता चला की बेटे ने एक रुपया चुराया है तो उसने गुस्से में अपने मासूम बेटे की जमकर पिटाई की. पिटाई से भी पिता का मन नहीं भरा तो उसने मासूम बच्चे के दोनों हाथ को घर में खौलते पानी में डुबो दिया था. बच्चा चिखता रहा, चिल्लाता रहा लेकिन क्रूर पिता को जरा भी दया नहीं आयी. बच्चे की आवाज़ सुन माँ भागी-दौड़ी मौके पर पहुंची और बच्चे को पिता की क्रूरता से बचाया था.

इसे भी पढ़ें :झारखंड में 80 जिला न्यायिक अधिकारियों के तबादले, रांची फैमिली कोर्ट के न्यायधीश पीयूष कुमार दुमका गये

शुरू में ढंग से नहीं हो पाया इलाज

घटना के बाद पिता घर से फरार हो गया था. गरीबी और तंगहाली के कारण माँ अपने बच्चे का इलाज नहीं करा पा रही थी .अपने बच्चे की इलाज के लिए दर दर भटकती माँ ने इलाज की गुहार लगायी थी . सदर हास्पिटल चाईबासा में अधूरा उपचार करके बच्चे बुध राम को घर वापस ले जाया गया था. उसके बाद उसके दोनों हाथ की दसों अंगुली सड़नी शुरू हो गयीं.

जानकारी के आभाव में इनके पास आयुष्मान कार्ड भी नहीं था लेकिन किसी तरह इनका आयुष्मान कार्ड बना.

इसे भी पढ़ें :अरमान कोहली की वजह से बॉलीवुड के बादशाह बने हैं शाहरुख खान, SRK ने खुद बताई वजह

तीन महीने के बाद रांची में हुआ इलाज

लगभग तीन महीने के बाद रांची के एक निजी हॉस्पिटल में मासूम का इलाज हुआ तो चिकित्सकों को उसके दोनों हाथ का दसों अंगुली काटनी पड़ीं. बच्चे के उम्र महज 11 साल है. बच्चे का परिवार काफी गरीब है. वहीं अधिक शराब पीने के कारण 17अगस्त 2021 को बच्चे के पिता का देहांत हो गया है.

इसे भी पढ़ें :शादी के बाद मायके गई दुल्हन आशिक संग हुई फरार, मचा हड़कंप

दो शादियां की थीं पिता ने

मासूम बच्चे बुधराम बोइपाई के पिता चिंता बोइपाई ने दो शादियाँ की है. पहली पत्नी से उसके पांच बच्चे हैं जबकि दूसरी पत्नी से उसके तीन बच्चे हैं. कुल आठ बच्चों के पिता की क्रूरता की यह कहानी है. जिस बच्चे का हाथ पिता चिंता बोइपाई ने खौलते पानी में डुबोया है वह बच्चा दूसरी पत्नी का बड़ा बेटा है.

इसे भी पढ़ें :ट्रिपल तलाक देकर पत्नी का Porn Video  डाला, सदमे में महिला ने उठाया खौफनाक कदम

Related Articles

Back to top button