JharkhandRanchi

31 मार्च तक क्रय केंद्र आनेवाले किसानों के धान की हो खरीदारी : सरयू राय

  • धान खरीद करने वाले जिलों में पूर्वी सिंहभूम, हजारीबाग और रांची अव्वल, पाकुड़, गोड्डा और साहेबगंज सबसे पीछे

Ranchi : खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने बुधवार को न्यूनतम समर्थन मूल्य और बोनस पर धान खरीद की प्रगति की समीक्षा की. इस दौरान विभागीय सचिव भी उपस्थित थे. राय ने इस दौरान निर्देश दिया कि 31 मार्च तक जितने भी किसान धान लेकर क्रय केंद्र पहुंचते उनके धान की खरीद की जायेगी. उन्होंने सचिव को निर्देश दिया कि सभी जिलों के उपायुक्तों को लिखित निर्देश भेजा जाये. अभी तक पूरे राज्य में 1.80 हजार मे. टन धान की खरीद हुई है. विभिन्न जिलों के धान खरीद केंद्रों की सक्रियता और संवेदनशीलता के साथ धान खरीद की जिम्मेदारी निभाते हैं तो आंकड़ा दो लाख मे.टन से उपर पहुंच जायेगा.

वहीं जानकारी दी गयी कि पीछले साल 2 लाख लाख 13 हजार मे. टन धान की खरीद हुई थी और खरीद का समय 30 अप्रैल तक था. इस वर्ष लोकसभा चुनाव घोषित हो जाने के कारण खरीद की तिथि 31 मार्च 2019 से आगे बढ़ाना संभव नहीं है. इसलिए किसानों को चाहिए कि वे 31 मार्च 2019 तक क्रय केंद्रों पर अपनी उपस्थिति दर्ज करा लें.

इसे भी पढ़ें – ममता का मोदी पर निशाना-राजनीतिक फायदे के लिए एक और बेइंतहा नौटंकी

पूर्वी सिंहभूम का स्थान पहला

इस साल धान खरीद करने वाले तीन जिलो में पहला स्थान पूर्वी सिंहभूम को मिला है. वहीं दूसरा स्थान हजारीबाग और तीसरा स्थान रांची को दिया गया है. पिछले साल सर्वाधिक धान खरीद करने वाले जिलों में पहला पलामू, दूसरा पूर्वी सिंहभूम और गढ़वा तीसरा स्थान पर थे. वहीं पिछले साल नीचे से पाकुड़, गोड्डा और साहेबगंज पहला, दूसरे और तीसरे स्थान पर थे. ये जिले इस साल भी सबसे नीचे ही है.

मंत्री राय ने इस दौरान निर्देश दिया कि आगामी 10 अप्रैल के पूर्व प्रत्येक जिला में धान अधिप्राप्ति केंद्र धान खरीद की मात्रा की सूची तैयार करें. जिन क्रय केंद्रों पर धान की खरीद बढ़िया हुई है, उन्हें प्रोत्सोहित किया जाये और जिन केंद्रों पर धान की खरीद कम हुई है उनसे स्पष्टीकरण पूछा जाये. इस साल केंद्र सरकार की ओर से धान की कीमत प्रति क्विंटल 1750 और राज्य सरकार की ओर से प्रति क्विंटल 150 रुपये दर बोनस दिया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – ‘मिशन शक्ति’ पर कांग्रेस से जेटली का सवालः सरकार में रहते क्यों नहीं दी थी इजाजत

सूखा के बावजूद हो रही अच्छी खरीद

पिछले साल राज्य में कई इलाका सूखाग्रस्त होने के बाद भी इस साल धान की अच्छी खरीद हुई है. मंत्री राय ने कहा कि राज्य सरकार के संबंधित विभाग जिम्मेदारी और संवेदनशीलता के साथ खरीद करने में जुटे और राज्य का उद्योग विभाग प्रत्येक जिले में कम से कम एक चावल मिल स्थापना करने की नीति बनायें तो राज्य में 5 लाख मे॰ टन से अधिक धान की खरीदारी आसानी से हो सकती है. जिससे राज्य के किसानों को इसका प्रत्यक्ष लाभ मिल सकता है. इस दौरान मंत्री सरयू राय ने अपील की कि धान क्रय केंद्रों पर 31 मार्च 2019 तक पहुंच कर अपना धान बेचें. साथ ही किसी तरह की परेशानी होने पर 18002125512 पर सूचित करें. क्रय केंद्र संचालकों को हर हालत में उनका धान खरीदने के लिये बाध्य करें.

इसे भी पढ़ें – 8 बार सांसद रहे शिबू सोरेन के लोकसभा क्षेत्र दुमका में है कुपोषण की समस्या

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close