न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जयपुर में बोले पी चिंदबरम, नोटबंदी घाेटाला है, सत्ता में आयेंगे, तो जांच करायेंगे

पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम ने मोदी सरकार की नोटबंदी को देश का सबसे बड़ा घोटाला करार देते हुए कहा कि अगर कांग्रेस 2019 में केंद्र में सत्ता में आयेगी, तो कांग्रेस नोटबंदी की जांच करवायेगी. साथ ही कहा कि जीएसटी के ढांचे में हम बदलाव लायेंगे.

16

Jaipur : पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम ने मोदी सरकार की नोटबंदी को देश का सबसे बड़ा घोटाला करार देते हुए कहा कि अगर कांग्रेस 2019 में केंद्र में सत्ता में आयेगी, तो कांग्रेस नोटबंदी की जांच करवायेगी. साथ ही कहा कि जीएसटी के ढांचे में हम बदलाव लायेंगे. शनिवार पूर्व वित्तमंत्री पी चिंदबरम जयपुर पहुंचे.  इस दौरान उन्होंने मीडिया से बातचीत के क्रम में ये सब बातें कहीं. बता दें कि राजस्थान में सात दिसंबर को चुनाव होना है.  ऐसे में प्रदेश में कांग्रेस-भाजपा जीत की पूरी कोशिश कर रही हैं. एक तरफ ताबड़तोड़ रैलियां की जा रही हैं तो  दूसरी ओर आरोपों-प्रत्यारोपों का सिलसिला जारी है.  एक ओर भाजपा अपनी सफलताएं गिनाने में लगी है तो  दूसरी ओर कांग्रेस वसुंधरा सरकार की कमियां को उजागर कर रही है और नये वादे कर रही है.  मीडिया से बातचीत करते हुए पी चिंदबरम ने कहा कि मोदी सरकार ने दो अंकों की वृद्धि दर का वादा किया था.  लेकिन उन्होंने चार सालों में से किसी भी वर्ष में दो अंको की वृद्धि दर हासिल नहीं की है.  कहा कि बड़ी कंपनियां पहले से ज्यादा दिवालिया हैं.

नोटबंदी से कई जिंदगियां चली गयी, छोटे उद्योग बंद हो गये

मोदी सरकार के बारे में उन्होंने कहा, इस सरकार ने दोहरे अंक के वृद्धि दर का वादा किया था. बीते चार वर्षो में कभी इस वृद्धि को प्राप्त नहीं कर सके.  वे इसे अंतिम वर्ष भी प्राप्त नहीं कर सकेंगे.  हर क्षेत्र में संकट है, चाहे वह बैंकिंग, उद्योग, विनिर्माण या रियल-इस्टेट का क्षेत्र हो. पी चिंदबरम ने मोदी सरकार की नोटबंदी को देश का सबसे बड़ा घोटाला करार दिया और कहा कि अगर कांग्रेस केन्द्र में सरकार बनायेंगे तो पार्टी इसकी जांच करवायेगी. कहा कि नोटबंदी के बारे में भाजपा सरकार के वादे सभी मोर्चे पर विफल रहे.   नोटबंदी से कई जिंदगियां चली गयी, कई छोटे उद्योग बंद हो गये. एक बार हमारी सरकार आ जायेगी तो हम इसकी पूरी जांच करवायेंगे और जीएसटी के ढांचे में बदलाव लायेंगे.  बता दें कि राजस्थान में 200 सीटों के लिए कुल 2294 प्रत्याशी मैदान में हैं.   भाजपा ने 200 प्रत्याशी, कांग्रेस ने 195, बसपा ने 190, आम आदमी पार्टी ने 142, भावापा ने 63, रालोपा ने 58 और अरापा ने 61 कैंडिडेट मैदान में उतारे हैं.

इसे भी पढ़ें : SC का NJAC पर पुनर्विचार से इनकार, मोदी सरकार को झटका, कोलेजियम प्रणाली रहेगी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: