Bihar

#PMCH के बाहर केंद्रीय मंत्री पर फेंकी गई स्याही, डेंगू मरीजों का हाल जानने पहुंचे थे अश्विनी चौबे

Patna: पटना मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पीटल के बाहर केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर स्याही फेंकी गयी है. घटना तब हुई जब वह शहर में डेंगू की रोकथाम के लिए पीएमसीएच में इंतजाम का जायजा लेने के बाद अपनी कार में सवार होने वाले थे.

इस घटना के पीछे बिहार के विवादास्पद राजनीतिक नेता पप्पू यादव के एक समर्थक का नाम सामने आ रही है. हालांकि, आरोपी भागने में सफल रहा.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ेंः#Saraikela: तीन बच्चों के साथ महिला ने कुएं में कूद कर दी जान, चारों शव बरामद

केंद्रीय मंत्री पर फेंकी स्याही

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री चौबे मरीजों से मिलने तथा अस्पताल के डॉक्टरों और अधिकारियों से चर्चा करने के बाद अपनी कार में सवार होने वाले थे कि उसी समय वाहन के पास स्याही भरी बोतल आकर गिरी. मंत्री के साथ मौजूद लोग इस घटना से हक्का-बक्का रह गए.

मंत्री की कार, मुख्यत: बोनट तथा मंत्री की सीट के सामने वाले शीशे पर स्याही गिरी. हालांकि, चौबे इससे अछूते रहे. चौबे ने घटनास्थल पर मौजूद पत्रकारों से कहा कि ‘यह उन लोगों का काम है जो राजनीति में आने से पहले अपराध की दुनिया में थे.’

इशारों में पूर्व सांसद पप्पू यादव पर हमला

हालांकि, केंद्रीय मंत्री ने पप्पू यादव का नाम नहीं लिया. लेकिन इशारों में उन्हीं पर वार किया. दरअसल, चौबे जब तक अस्पताल में निरीक्षण कर रहे थे.

इसे भी पढ़ेंःपेयजल एवं स्वच्छता विभाग सचिव आराधना पटनायक ने गुमला में ODF फर्जी निकासी जांच पर उठाया सवाल, कहा- फिर से करें जांच

मधेपुरा के पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव के नेतृत्व वाली जन अधिकार पार्टी (जेएपी) से जुड़े लोग पटना की सड़कों पर जल जमाव के दौरान और उसके चलते फैली बीमारियों के बाद लोगों को राहत और उचित चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने को लेकर नाराजगी जता रहे थे. मामले में सरकार की उदासीनता का आरोप लगाते हुए नारेबाजी करते रहे.

आम लोगों में गुस्सा है- पप्पू यादव

स्याही फेंकने की घटना के बारे में पूछे जाने पर यादव ने कहा, ‘मैं आज सुबह ही दिल्ली से लौटा हूं. मैं यह कह सकता हूं कि जनता के मन में सत्ता में बैठे लोगों के खिलाफ गुस्सा है. घटना को मुझसे या मेरी पार्टी से नहीं जोड़ा जाना चाहिए. यह लोगों का गुस्सा है जो प्रकट हुआ है.’

गौरतलब है कि घटना को लेकर समाचार चैनलों पर प्रसारित फुटेज में सुरक्षाकर्मी दो लोगों का पीछा करते दिखे, लेकिन इन लोगों को पकड़ा नहीं जा सका. इनमें से एक व्यक्ति ने टी शर्ट और काली जीन्स पहन रखी थी.

इसे भी पढ़ेंःनिर्दोष को दोषी बनाकर कोर्ट में किया पेश, पुलिस को पड़ी जज की फटकार

बाद में टी-शर्ट पहना व्यक्ति एक स्थानीय समाचार चैनल पर दिखा और खुद को जेएपी की छात्र शाखा का सदस्य और अपना नाम निशांत झा बताया.

निशांत झा ने कहा कि वह ‘आम लोगों की तरफ से गुस्सा व्यक्त करना चाहता था जिनकी आवाज सत्ता में बैठे लोग कभी नहीं सुनते.’

वही पीरबहोर थाने के प्रभारी रिजवान अहमद खान ने न्यूज एजेंसी पीटीआइ से कहा, ‘हमने मीडिया में आई खबरों का संज्ञान लिया है और हम शरारत करने वालों को जल्द पकड़ेंगे.’

गौरतलब है कि सितंबर में भारी बारिश की वजह से पटना समेत बिहार के कई जिले बाढ़ से प्रभावित रहे. वहीं राजधानीवासी जल-जमाव से खासे परेशान रहे. अब जल-जमाव के कारण पनपी बीमारियों ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंःक्या डुमरी से पूरी होगी सुदेश महतो की फिर से विधायक बनने की मुराद !

Related Articles

Back to top button