न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आइटी पार्क के लिए अधिगृहित की गयी 170.49 एकड़ जमीन में से 90 एकड़ होगी वापस

883
  • ग्रेटर रांची डेवलपमेंट ऑथोरिटी ने लिया फैसला, अब 80 एकड़ जमीन पर बनेगा आइटी पार्क
  • एसएलबीसी, भवन निर्माण विभाग के स्टेट गेस्ट हाउस, नेलिट, एनटीपीसी, ईडी, एनएचएआइ को दी जायेगी बाकी जमीन

Ranchi: राजधानी के कोर कैपिटल एरिया में आइटी पार्क के लिए ली गयी जमीन में से 90 एकड़ जमीन राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग को वापस की जायेगी. आइटी पार्क के लिए कोर कैपिटल एरिया में 170.49 एकड़ जमीन सूचना प्राद्योगिकी और ई-गवर्नेंस विभाग को दी गयी थी. लेकिन अब आइटी पार्क 80 एकड़ भूमि पर बनाया जायेगा. आइटी पार्क के सरप्लस 90 एकड़ भूमि को विभिन्न सरकारी संस्थानों, कार्यालयों को आवंटित किया जायेगा. ग्रेटर रांची डेवलपमेंट ऑथोरिटी (जीआरडीए) की प्रबंध समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया.

बैठक में यह तय किया गया कि कोर कैपिटल एरिया में सरकार भूमि आवंटन को लेकर समय-समय पर विचार विमर्श करती रहती है. बैठक में यह तय किया गया कि आइटी पार्क अगले दस वर्षों में बन कर तैयार होगा. इसमें 80 एकड़ भूमि का ही उपयोग होगा. 9 अक्टूबर 2017 को आइटी पार्क के लिए सूचना प्राद्योगिकी विभाग को 170.49 एकड़ जमीन आवंटित की गयी थी.

hosp3

एसएलबीसी, नेलिट, इडी, एनटीपीसी को दी जायेगी जमीन

जीआरडीए की बैठक में आइटी विभाग से वापस ली गयी जमीन कई संस्थानों को आवंटित किये जाने का निर्णय लिया जायेगा. एचइसी परिसर कोर कैपिटल एरिया में नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को क्षेत्रीय कार्यालय खोलने के लिए जमीन मुहैया करायी जायेगी. इसके अलावा राष्ट्रीय उच्च पथ प्राधिकार के क्षेत्रीय कार्यालय और परियोजना अनुश्रवण इकाई (पीएमयू) बनाने, वन पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय नयी दिल्ली के क्षेत्रीय कार्यालय, नेलिट तथा राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति (एसएलबीसी) को भी जमीन देने कै फैसला लिया गया. इतना ही नहीं, राज्य सरकार के स्टेट गेस्ट हॉउस के लिए भी कोर कैपिटल एरिया में जमीन मांगी गयी है.

कोर कैपिटल एरिया में किन्हें मिलेगी जमीन

संस्थान का नामकुल भूखंड
एनटीपीसी लिमिटेडदो एकड़
प्रवर्तन निदेशालयदो एकड़
एनएचएआइएक एकड़
पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय

 

एक एकड़
एसएलबीसीपांच एकड़
नेलिटएक एकड़
स्टेट गेस्ट हॉउस—–

 

इसे भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव : झारखंड में गठबंधन के चार रोड़े, सीटों की साझा घोषणा करने से डर रहीं पार्टियां

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: