Crime NewsJharkhandRanchiTOP SLIDER

ओरमांझी युवती हत्याकांडः जानिए, पुलिस कैसे पहुंची हत्यारे के गिरेबान तक…कैसे बरामद की गयी सिरकटी लाश

ब्लाइंड मर्डर माने जा रहे केस की मिस्ट्री सुलझाने में दिन-रात जुटी रही एसएसपी की टीम

Sohan Singh

Ranchi: ओरमांझी युवती हत्या कांड को सुलझाकर रांची पुलिस ने एक बड़ी कामयाबी हासिल की है. एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा की लगातार मॉनिटरिंग, तहकीकात में जुटे अफसरों की दिन-रात मेहनत और हर छोटे-बड़े इन्फॉर्मेशन के आधार पर तत्काल एक्शन का ही नतीजा है कि शुरू से ब्लाइंड मर्डर माना जा रहा यह केस दसवें दिन सुलझ गया.

सिरकटी लाश की बरामदगी के साथ मिस्ट्री पूरी तरह सुलझ गयी. इस बर्बर कांड को अंजाम देनेवाला शेख बिलाल भले अब तक फरार है, लेकिन सोर्सेज की मानें तो उसके संभावित ठिकानों के बारे में पुलिस को पुख्ता जानकारी मिल गयी है और जल्द ही वह सलाखों के पीछे होगा.

शेख बिलाल शातिर क्रिमिनल है और उसने इस कांड को अंजाम देने के लिए जितने शातिराना तरीके अपनाये, उसमें उसे इस बात का कतई एहसास नहीं रहा होगा कि पुलिस के हाथ आसानी से उसके गिरेबान तक पहुंच पायेंगे.

इसे भी पढ़ें : जैक की मैट्रिक और इंटर बोर्ड की परीक्षा अब अप्रैल में होगी

ब्लाइंड केस में ऐसे तलाशे गये सुराग

रांची पुलिस ने बीते 3 जनवरी को साईनाथ यूनिवर्सिटी के पीछे झाड़ियों के बीच युवती की निर्वस्त्र और सिरकटी लाश बरामद की थी. न तो उसकी शिनाख्त हो पा रही थी, न कटे हुए सिर का कोई पता चल रहा था.

दर्जनों पुलिसकर्मियों की टीम लगातार जंगल और आस-पास के इलाके की खाक छानती रही, पर कहीं कोई सुराग नहीं. इधर राजधानी में इस मुद्दे पर आक्रोश का उबाल होने लगा और इसके साथ ही राजनीति भी गर्म होने लगी.

पुलिस के इकबाल पर सवाल उठने लगे और घटना की आंच सत्ता प्रतिष्ठान तक पहुंचने लगी. आरोप-प्रत्यारोप के सिलसिले के बीच रांची पुलिस पर जबर्दस्त दबाव था कि वह हत्यारों का पता लगाये. एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा और उनकी पूरी टीम मारी गयी युवती और हत्यारों के बारे में लीड हासिल करने के लिए दिन-रात जुटे रहे. तमाम सोर्सेज खंगाले गये.

रांची सहित आस-पास के जिलों के थानों से लड़कियों के मिसिंग केसेज के बारे में जानकारियां जुटायी गयीं. ऐसे लोगों के घरों में दस्तक दी गयी, जिन्होंने किसी लड़की के लापता होने या अगवा होने की रिपोर्ट या सनहा दर्ज कराया हो. एक रोज चेशायर होम रोड की एक महिला ने रिम्स में युवती की लाश देखने के बाद आशंका जतायी कि यह उसकी लापता बेटी की लाश हो सकती है.

पुलिस ने तत्काल उस युवती के फोन कॉल्स के रिकॉर्ड खंगाले और उसके प्रेमी को पकड़ा. उससे पूछताछ हुई तो पता चला कि वह जिंदा है और रांची में ही छिपकर रह रही है. पुलिस ने उसे बरामद किया. इधर सिरकटी लाश के मामले में पुलिस के हाथ एक बार फिर खाली हो गये.

इसे भी पढ़ें : बढ़ सकता है सिटी बस का भाड़ा और पार्किंग शुल्क, रांची नगर निगम बोर्ड की बैठक में लाया जायेगा प्रस्ताव!

…और एसएसपी के सोर्स की बदौलत मिली पुख्ता सूचना

एसएसपी ने अपने सोर्सेज को अब उनके बारे में पता लगाने को कहा, जो मिसिंग तो हों लेकिन उनका केस पुलिस में रिपोर्ट न हुआ हो. 10 जनवरी को पुलिस के सोर्स ने एक ऐसे परिवार को ढूंढ़ निकाला, जिनकी विवाहिता बेटी पिछले कुछ दिनों से लापता थी लेकिन उन्होंने इस बात की जानकारी पुलिस को नहीं दी थी.

यह परिवार चान्हो थाना क्षेत्र के चटवल का रहनेवाला है. पुलिस ने परिवार के लोगों को रांची रिम्स लाकर युवती की लाश दिखायी. इस लाश को देखकर परिवार के लोगों ने कहा कि हां, यह हमारी बेटी सूफिया परवीण की लाश है. परिवार के लोगों ने डेड बॉडी के एक पांव में जलने के पुराने निशान के आधार पर पहचान पुख्ता की.

बताया कि सूफिया बचपन में खाना बनाते वक्त जल गयी थी और उसके पांव में बिल्कुल ऐसे ही निशान थे. पुलिस को यह लीड मिली तो हत्यारे की पहचान में महज कुछ घंटे का वक्त लगा. पता चला कि सूफिया ने चंदवे ग्राम निवासी शेख बिलाल के साथ विवाह किया था.

विवाह के कुछ माह बाद ही शेख बिलाल उसके साथ मारपीट करने लगा था, जिसकी शिकायत उसने पुलिस में की थी. इस शिकायत के अगले ही दिन शेख बिलाल को पुलिस ने बीते जून महीने में गिरफ्तार कर जेल भेजा था.

सूफिया ने इसके पहले खालिद नामक एक युवक से विवाह किया था. पुलिस ने खालिद को पकड़ा तो उसने पूछताछ में इस घटना में अपनी संलिप्तता से साफ इनकार किया. पुलिस ने शेख बिलाल पर फोकस किया. वह घर से फरार मिला.

उसके घरवालों से और उसे जाननेवालों से पूछताछ की गयी तो पुलिस का शक पुख्ता हो गया कि इस घटना के पीछे बिलाल ही है. तब 11 जनवरी की शाम पुलिस ने उसकी तस्वीर जारी कर दी और साथ ही सुराग देने पर इनाम की घोषणा.

अब एक टास्क था कटे हुए सिर की तलाश. पुलिस ने शक और कुछ सूचनाओं के आधार पर बिलाल के गांव चंदवे में तालाब और खेत में मंगलवार सुबह से तलाशी शुरू की और आखिरकार वह जगह तलाश ली गयी, जहां गड्ढा खोदकर सूफिया का सिर गाड़ दिया गया था. यह खेत बिलाल का ही है. उसने गड्ढे में नमक डालकर उसका सिर गाड़ दिया था, ताकि जल्दी से जल्दी यह साक्ष्य मिट जाये.

इसे भी पढ़ें : पतरातू डैम से जिस पूजा भारती का शव मिला है उसकी गजब की थी मेमोरी, पेज नंबर के साथ याद थी किताबें

एक नजर घटनाक्रम पर

03 जनवरीः रांची के ओरमांझी में युवती की सिर कटी लाश मिलने से सनसनी. लाश निर्वस्त्र अवस्था में मिली . इलाके में सनसनी फैल गयी थी और लोग युवती की मौत को लेकर अपनी-अपनी तरफ से कयास लगा रहे थे.

04 जनवरीः पुलिस की टीम गायब सिर को तलाशती रही. दर्जनों पुलिसकर्मियों को लगाया गया लेकिन कोई सफलता नहीं मिली.

04 जनवरी: पुलिस के प्रयास के बावजूद युवती की पहचान नहीं हुई और ना ही कोई सुराग मिल पाया. शाम में इस घटना को लेकर रांची के किशोरगंज चौक पर प्रदर्शन कर रहे लोगों ने सीएम के काफिले पर हमला कर दिया. इधर पुलिस ने युवती की पहचान और अपराधियों के संबंध में सूचना देने वाले को 25 हजार रुपये नगद राशि देकर पुरस्कार की घोषणा की.

05 जनवरीः कटी लाश मिलने के मामले में सुराग देने वाले इनाम की राशि 25000 से बढ़ाकर 50000 की गयी. घटनास्थल पर रांची के आइजी अखिलेश झा सहित तमाम अधिकारी पहुंचे और घटनास्थल का मुआयना किया. रांची के सदर इलाके की रहनेवाली एक महिला ने सिरकटी लाश के बारे में अपनी बेटी होने का दावा किया. पुलिस महिला के दावे की जांच कर रही थी और जरूरत पड़ने पर महिला का डीएनए टेस्ट कराने की थी तैयारी.

06 जनवरीः डीजीपी ने आला पुलिस पदाधिकारियों के साथ बैठक की. अफसरों को कड़ी फटकार लगाई.

06 जनवरीः जिस महिला ने ओरमांझी में मिले सिरकटे शव को अपनी बेटी का बताया था, उसकी बेटी जीवित मिल गयी. वह रांची में ही किराये के घर में छुप कर रह रही थी.

7 जनवरीः रांची पुलिस ने कटा सिर को खोजने के लिए चप्पे-चप्पे की तलाशी ली लेकिन सफलता नहीं मिली

08 जनवरीः सिर कटी लाश का शुक्रवार की रात लगभग 11:00 बजे दोबारा पोस्टमार्टम किया गया. हफ्ता दिन पूर्व हुए पोस्टमार्टम में कुछ खास जानकारी पुलिस को नहीं मिल सकी थी. इधर, हत्या के बारे में सुराग देने वाले के लिए इनाम की राशि पांच लाख कर दी गयी

10 जनवरी: रांची के चान्हो के चटवल की रहने वाली एक महिला ने रिम्स आकर सिर कटी लाश के बारे में अपनी बेटी होने का दावा किया था. रांची पुलिस ने डीएनए जांच के लिए सैंपल लिया था और महिला से बेटी की जानकारी ली थीं. महिला के दावे के बाद सूफिया के पति खालिद को हिरासत में लिया. उसने बताया कि उसकी पत्नी बिलाल के साथ रहती है. इसके बाद पुलिस ने बिलाल की कुंडली खंगालने लगी .

11 जनवरीः रांची पुलिस ने महिला के दोस्त शेख बिलाल की तस्वीर जारी की. बिलाल के बारे में जानकारी देने वालो को नकद इनाम की भी घोषणा की .

12 जनवरी: रांची पुलिस को ओरमांझी में मिली सिर कटी लाश मामले में बड़ी सफलता मिली और पिठोरिया के चंदवे में शेख बिलाल के खेत से सिर को खोज निकाला. शेख बिलाल के पत्नी और बेटे को हिरासत में ले लिया गया.

इसे भी पढ़ें : NEWS WING IMPACT: अरगोड़ा नदी की भूमि पर अवैध कब्जे की जांच करने पहुंची प्रशासन की टीम, कब्जा करनेवालों को नोटिस

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: