न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेसोवा की ओर से 25 अक्टूबर से किया जायेगा दिवाली मेला का आयोजन

219

Ranchi: झारखंड आइएएस ऑफिसर्स वाइव्स एसोसिएशन की ओर से 25 अक्टूबर से दिवाली मेला का आयोजन किया जायेगा. पांच दिवसीय मेला का आयोजन 29 अक्टूबर तक किया जायेगा. इसकी जानकारी जेसोवा की सचिव ऋचा संचिता ने सोमवार को प्रेस वार्ता के दौरान दी. उन्होंने कहा कि मेला को लेकर सारी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं. जिसमें देश भर से स्टॉल लगाये जायेंगे. मेला में बच्चों के लिए एडवेंचर गेम्स के लिए अलग जोन बनाया गया है. वहीं वयस्कों की पंसद को ध्यान में रखते हुए अलग से मनोरजंन जोन बनाया गया है. जिसके अंतर्गत साहसिक खेल के आयोजन किये जायेंगे. लोगों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए मेला परिसर में ही एटीएम जोन बनाया गया है. जिससे लोग मेला का भरपूर आनंद ले सकें. मौके पर जेसोवा दिवाली मेला का पोस्टर रिलीज किया गया. मेला में नि:शुल्क स्वास्थ्य स्टॉल भी लगायें जायेंगे.

इसे भी पढ़ें :बकोरिया कांड : न्यूज विंग ने न्याय के लिए चलाया था अभियान, पढ़िये सभी खबरें एक साथ

लगेंगे 200 स्टॉल

उन्होंने बताया कि मेला में लगभग 200 स्टॉल लगेंगे. जिसकी बुकिंग हो चुकी है. यहां के स्टॉल देश भर से लगाये जायेंगे. जिसमें मुख्य रूप से राजस्थानी, गुजराती, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, मध्य प्रदेश समेत अन्य स्थानों के स्टॉल लगेंगे. मेला का उद्घाटन 25 अक्टूबर को मुख्यमंत्री रघुवर दास करेंगे.

जनजातीय फूड स्टॉल भी

इस दौरान जेसोवा सचिव ऋचा संचिता ने बताया कि जेसोवा की ओर से आयोजित मेला का मुख्य उद्देश्य झारखंडी कला को आगे बढ़ाना है. साथ ही राज्य की महिलाओं को एक मंच देना, जहां वह अपनी कला का प्रदर्शन कर सकें. इसी के तहत इस साल मेला में स्वदेशी कपड़ों, जनजातीय भोजन, स्वदेशी कला से संबधित स्टॉल भी लगाये जायेंगे.

इसे भी पढ़ें: गिरिडीह : हार्डकोर नक्सली माधो मरांडी गिरफ्तार, कई कांडों में था वांछित

लोक नृत्यों का होगा आयोजन

ऋचा संचिता ने बताया कि पांच दिवसीय मेला में प्रत्येक शाम सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किये जायेंगे. जिसमें प्रत्येक शाम अलग-अलग लोक नृत्य लोक कलाकारों की ओर से प्रस्तुत किया जायेगा. राज्य के लोक नृत्यों में झूमर, छउ आदि प्रस्तुत किये जायेंगे.

इसे भी पढ़ें: रिम्‍स: महीनों भर्ती होने के बाद बिना इलाज कराये लौटना चाहते हैं मरीज

शिक्षा को बढ़ावा देना मुख्य उद्देश्य

उन्होंने बताया कि जेसोवा का मुख्य उद्देश्य समाज सेवा करना है. जिसके लिए जेसोवा कार्यकर्ता हमेशा सक्रिय रहती हैं. उन्होंने बताया कि इस साल जेसोवा की ओर से कांके में ट्राइबल लाइब्रेरी खोला गया है. आने वाले समय में खूंटी में भी दो लाइब्रेरी खोलने की योजना है. जिसका कार्य लगभग पूरा है. जहां आदिवासी छात्र पढ़ सकें. वहीं मधुकम और अरगोड़ा में दो आंगनबाड़ी केंद्रों को भी जेसोवा की ओर से गोद लिया गया है. जेसोवा वंचित बच्चों की शिक्षा में अधिक कार्य करना चाहती है. मौके पर अध्यक्ष दिव्या त्रिपाठी, सरिता पांडे, मंजु प्रसाद, मिली सरकार, अनिता शर्मा, मिनी सिंह, अमिता खंडेलवाल, प्रभा रहाटे, अनिता सिन्हा, मनु झा, निक्की टोप्पो समेत अन्य महिलाएं उपस्थित थीं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: