Giridih

श्री कृष्ण जन्माष्टमी में भक्ति की रसगंगा में सराबोर गिरिडीह,बगोदर में दही हांडी का आयोजन

सलूजा गोल्ड स्कूल में फैंसी ड्रेस प्रतियोगित

Giridih: ओ पालनहारे, निर्गुण और न्यारे, तुम्हरे बिन हमरा कौन यहां, भक्तों को श्रीकृष्ण की भक्ति के रासलीला में डुबाने वाला ये भजन शुक्रवार को सृष्टि के तारणहार भगवान श्रीकृष्ण के जन्मतोसव का महापर्व जन्माष्टमी के पर्व पर खूब सुनाई पड़े. गिरिडीह के मंदिरों में भव्य सजावट के बीच श्रीकृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया. शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक के मंदिरों में भगवान श्रीकृष्ण के आवाहन को लेकर भक्तों की भीड़ उमड़ी. सुबह में जहां भक्तो ने उपवास कर भगवान श्रीकृष्ण की पूजा अर्चना की वही शाम होते ही मंदिरों में हुए सजावट से पूरा मंदिर तारणहार के जन्मोत्सव में डूबा नजर आया. युवाओं से लेकर युवतियां, महिलाओ की भीड़ भगवान श्रीकृष्ण के दर्शन पाने को आतुर नजर आए. शहर के प्रसिद्ध शांति भवन श्रीकृष्ण मंदिर की सजावट पिछले वर्षों की तरह इस बार भी भक्तो के आकर्षण का केंद्र बनी. श्रीकृष्ण के साथ राधा की मूर्ति भी भक्तों को बेहद आकर्षक नजर आया.

यह भी पढ़े: गिरिडीह में प्रतिबंधित मवेशी को लेकर जा रहे युवकों को दूसरे समुदाय के लोगों खदेड़ा, बिगड़ने से बचा माहौल

भजन-कीर्तन से सराबोर नजर आए लोग

इस दौरान शहर से लेकर ग्रामीण इलाके तक अनगिनत मंदिरों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को लेकर भक्तों ने पूरे भक्तिभाव के साथ पूजा अर्चना किया तो कई मंदिरों में भजन कीर्तन का भी आयोजन किया गया. जबकि मध्य रात्रि में श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के साथ मंदिरों में घंटे घड़ियाल बजने शुरू हो गए. इधर जन्माष्टमी को लेकर ही गिरिडीह के बगोदर के बेको गांव में दही हांडी का आयोजन किया गया, जिसमे गांव के युवाओं ने पूरे उत्साह के साथ एक दूसरे पर पिरामिड बनकर दही हांडी फोड़ा. मौके पर आयोजन समिति की और से विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया गया.

सलूजा गोल्ड स्कूल में फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता

इधर, जिले के सलूजा गोल्ड स्कूल में जन्माष्टमी के मौके पर फैंसी ड्रेस पतियोगिता का आयोजन किया गया. जिसमें शामिल हर नन्हें प्रतिभागी कृष्ण और राधा के वेशभूषा में आर्कषक लग रहे थे. स्कूल प्रबंधन ने बच्चों को टॉफी देकर उनका हौसला अफजाई किया. स्कूल के निदेशक जोरावर सिंह सलूजा ने कहा कि सलूजा गोल्ड स्कूल क्वालिटीपूर्ण शिक्षा देने के साथ छात्रों को तनावमुक्त शिक्षा देने के दिशा में प्रयासरत है.

सलूजा गोल्ड स्कूल के बच्चों ने नृत्य से बांधा समा

Related Articles

Back to top button