JharkhandPalamu

आरा-रांची ट्रेन को गया-बोकारो रूट से चलाने जाने का विरोध

Palamu : पूर्व मध्य रेलवे के मुगलसराय मंडल अंतर्गत डेहरी ऑन सोन-गढ़वारोड रेलखंड सभी तरह की अहर्ता पूरी करने के बावजूद यात्री सुविधाओं के लिए तरसता रहता है. इस रूट पर लगातार मालगाड़ियों को प्राथमिकता दिये जाने पर यात्री ट्रेनों का अभाव होता जा रहा है. ऐसा नहीं है कि रेलवे को पर्याप्त आय उपलब्ध कराने में यह रेलखंड पीछे रहा हो, लेकिन विभाग और जनप्रतिनिधियों की निष्क्रियता से कई सुविधाएं समयानुसार नहीं मिल पाती.

क्षेत्रीय सांसदों के प्रति लोगों में गहरी नाराजगी

आरा-रांची नयी ट्रेन को आरा से भाया गया होकर बोकारो सिटी के रास्ते रांची तक चलाने जाने पर बीडी सेक्शन के यात्रियों के साथ-साथ राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं में भारी आक्रोश है. गौरतलब है कि शुक्रवार को आरा से रांची के लिए इस नयी ट्रेन को चलायी गयी है. आरा, सासाराम भाया गया होकर बोकारो के रास्ते ट्रेन को चलाये जाने पर उक्त रेलखंड से जुड़े लोग काफी उत्साहित हैं, पर रेलवे द्वारा सासाराम से रांची तक का समय सारणी भाया गया, बोकारो, मुरी होकर चलाने की जानकारी मिलने के बाद केंद्र सरकार और बीडी सेक्शन के क्षेत्रीय सांसदों के प्रति लोगों में गहरी नाराजगी है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

सत्तासीन दल के सांसद इस रूट से इस ट्रेन को चलवाने में नाकाम रहे

The Royal’s
Sanjeevani

लोगों का कहना है कि क्षेत्र के आमलोगों समेत कई सामाजिक, गैर राजनीतिक संगठनों ने रेल मंत्रालय समेत रेलवे अधिकारियों से उक्त ट्रेन को भाया जपला, गढ़वारोड चलाने की मांग की. लेकिन पलामू, चतरा, लोहरदगा के केंद्र में सत्तासीन दल के सांसद इस रूट से इस ट्रेन को चलवाने में नाकाम रहे, जिसका परिणाम रहा ट्रेन तो चलेगी पर पूर्व से उपेक्षित इस सेक्शन के लाखों की आबादी पुनः उपेक्षित ही रहेगी. लोगों का कहना है कि जिस रूट में यात्री ट्रेनों की भरमार है, उसी रूट में एक और ट्रेन की बढ़ोतरी की क्या जरूरत थी? जिस रुट पर प्रारंभिक दौर से ही ट्रेन सुविधा का आभाव रहा वहां नदारद रहना, लोगों के दिल को टिस कर गया है. अब जबकि लोस चुनाव का विगुल बजने वाला है, ऐसे में बड़ी तादात में लोगों की नाराजगी सत्ता पर आसीन पार्टी के लिए कुठाराघात से कब नहीं होगा.

सांसद पलामू के लोगों को रेल सुविधा दिलाने में पूरी तरह नाकाम रहे

आम आदमी पार्टी के हुसैनाबाद विस प्रभारी डॉ आरसी मेहता, मुखिया संघ के अध्यक्ष पंचम खान, कांग्रेसी नेता रामजन्म राम, राकांपा नेता महिपाल प्रसाद, नित्यानंद पाठक, पवन सिंह, राजद नेता मनोज सिंह, गणेश मेहता, कांग्रेस के नदीम खान, सुमंत कुमार, विवेक विशाल, जेवीएम के उदय सिंह, बसपा के सुमेश राम समेत भाजपा नेताओं ने भी सांसद की निष्क्रियता पर सवाल उठाया है. उनका कहना है कि पलामू के सांसद पलामू के लोगों को रेल सुविधा दिलाने में पूरी तरह नाकाम रहे हैं. पिछले तीन माह से वैसे भी लोग रेलवे द्वारा रेलखंड के लाइफलाइन ट्रेनों के परिचालन स्थगित कर दिये जाने के कारण आवगमन का संकट झेल रहे हैं, पर सांसद ने उक्त समस्या के प्रति भी उदासीनता रवैया अपनाया है.

इसे भी पढ़ें : सीआरपीएफ कैंप तक पानी पहुंचाने की सरकार ने की पहल

Related Articles

Back to top button