न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

किसान आंदोलन के मंच पर पहुंचा विपक्ष, बोले राहुल- पीएम मोदी ने हिंदुस्तान को अंबानी-अडाणी में बांटा

22

New Delhi: किसानों को कर्ज मुक्त बनाने और फसल की लागत का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य दिए जाने की मांग को लेकर दिल्ली में जुटे किसानों के आंदोलन को विपक्ष का समर्थन मिला है. किसानों के बीच पहुंच कर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र की सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जम कर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि यदि पीएम मोदी अपने 15 अमीर दोस्तों का कर्ज माफ कर सकते हैं तो देश के करोड़ों किसानों का कर्ज भी माफ करना होगा. राहुल ने कहा कि पीएम ने देश को अंबानी-अडाणी के बीच में बांच दिया है.

किसानों के प्रदर्शन में विपक्ष ने अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की

किसानों के आंदोलन में विपक्ष ने अपनी ताकत का एहसास कराने की कोशिश की. इस आंदोलन का समर्थन करने राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल, शरद यादव, सीताराम येचुरी समेत देश के तमाम विपक्षी दलों के नेता पहुंचे. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि यदि किसानों की बात नहीं सुनी गयी तो 2019 में होनेवाले चुनाव में मोदी सरकार के खिलाफ कयामत ढा देंगे.

किसान कोई फ्री गिफ्ट नहीं मांग रहा, अपना हक मांग रहा

राहुल गांधी ने कहा कि किसान कोई फ्री गिफ्ट नहीं मांग रहा, अपना हक मांग रहा है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा था कि वे किसानों बोनस भी देंगे. आप बीमा का पैसा देते हो, अनिल अंबानी की जेब में जाता है. किसान ये भी नहीं चुन सकता कि कौन सा बीमा ले. राहुल गांधी ने किसानों के मंच से विपक्षी एकता की भी बात की. उन्होंने कहा कि हम सब की विचारधारा अलग है, लेकिन किसान और युवाओं के लिए हम एक हैं.

किसान 2019 में मोदी सरकार के खिलाफ कयामत ढा देंगे: केजरीवाल

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि किसानों की मोटे तौर पर तीन मांगें हैं. जितना कर्ज किसानों का है वह सारा कर्ज माफ होना चाहिए. किसानों को उनकी फसल का पूरा दाम मिलना चाहिए. और स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि किसान भीख नहीं मांग रहे हैं बल्कि वे अपना हक मांग रहे हैं. उन्होंने कहा कि सरकार की जो फसल बीमा योजना है वह किसानों के साथ धोखा है. यह बीजेपी की किसान डाका योजना है. इसकी जगह सही बीमा योजना लाने की जरूरत है.
 इसे भी पढ़ें – छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड से महंगी है झारखंड में बिजली, अब वितरण निगम को 43 लाख कंज्यूमर से चाहिए 21,629 करोड़

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: