BiharLead News

बिहार विधानसभा में मेडिकल की पढ़ाई की मोटी फीस को लेकर विपक्षी पार्टियों ने किया हंगामा

Patna: बिहार में मेडिकल की पढ़ाई करने वाले छात्रों को प्राइवेट कॉलेजों में मोटी फीस देनी पड़ती है. इस मामले को लेकर गुरुवार को बिहार विधानसभा में खूब बहस हुई. दरअसल जेडीयू विधायक डॉ संजीव कुमार समेत अन्य सदस्यों की तरफ से सदन में ध्यानाकर्षण सूचना लाई गई थी. इस पर सरकार की तरफ से जवाब भी दिया गया. जेडीयू विधायक ने प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों को होने वाले खर्च का मूल्यांकन कर फीस का निर्धारण किया जाता है.

विधानसभा में जब इस बात पर चर्चा होने लगी तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी अपनी बात रखी. नीतीश कुमार ने कहा कि यूक्रेन में इतनी तादाद में भारत के छात्र मेडिकल पढ़ने जा रहे हैं इस बात की जानकारी अब सामने आई है लेकिन यह भी सच है कि मेडिकल और इस तरह की पढ़ाई को लेकर जो भी स्ट्रक्चर तय होता है वह केंद्र सरकार की तरफ से तय किया जाता है. नीतीश कुमार ने कहा कि यह बात भी सामने आई है कि यूक्रेन में देश से सस्ती मेडिकल की पढ़ाई होती है.

अगर ऐसा है तो केंद्र सरकार को इसे देखना चाहिए. नीतीश कुमार ने कहा कि पहले जो लेफ्ट विचारधारा के लोग होते थे वहीं पढ़ाई के लिए सोवियत संघ या रूस जाते थे लेकिन अब इतनी बड़ी तादाद में अगर बिहार से छात्र जा रहे हैं तो इसे देखना होगा.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें:Jharkhand विधानसभा बजट सत्र: बजट पेश होने से पूर्व विधानसभा की कार्यवाही 45 मिनट के लिए स्थगित, भाजपा का हंगामा

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

सरकार की तरफ से मिले जवाब पर सभी दलों के विधायकों ने असंतोष जताया. सबने कहा कि सरकार को इस मामले में कोई ठोस पहल करनी चाहिए.

इसके बाद स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि इस मामले में जो सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर जजों की कमेटी बनाई गई है, उसके सामने राज्य सरकार की तरफ से प्रस्ताव भेजा जाएगा. इस कमेटी को अवगत कराया जाएगा कि प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों की फीस कम की जाए.

इसे भी पढ़ें:झारखंड: आचार्य और फाजिल डिग्रीधारी भी बन सकेंगे हाई स्कूल में शिक्षक

Related Articles

Back to top button