NationalNEWS

स्टेन स्वामी की मौत पर विपक्षी नेताओं ने राष्ट्रपति को लिखी चिट्ठी, कार्रवाई की मांग

NEW DELHI: भीमा कोरेगांव मामले में आरोपी बनाए गए 84 वर्षीय फादर स्टेन स्वामी ने जमानत के इंतजार में आखिरकार दम तोड़ दिया. उनके निधन के बाद एकजुटता का परिचय देते हुए देश की 10 विपक्षी दलों के नेताओं ने मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखा है. नेताओं ने राष्ट्रपति से आग्रह किया कि वे आदिवासी अधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी के खिलाफ फर्जी मामले गढ़ने, उन्हें लगातार जेल में रखने और उनके साथ अमानवीय व्यवहार के जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराने के लिए हस्तक्षेप करें.

इसे भी पढ़ें : JEE मेन के तीसरे और चौथे चरण की परीक्षा 20 जुलाई से 2 अगस्त तक

विपक्षी नेताओं ने यह पत्र स्टेन स्वामी का मुंबई के एक अस्पताल में उपचार के दौरान निधन होने के एक दिन बाद लिखा है. वह एल्गार परिषद-माओवादी संबंध मामले में आरोपी थे और निधन के समय हिरासत में थे.पत्र पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी और द्रमुक नेता एवं तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने हस्ताक्षर किये हैं.

 

पूर्व प्रधानमंत्री एवं जद (एस) नेता एच डी देवेगौड़ा, झारखंड के मुख्यमंत्री और झामुमो नेता हेमंत सोरेन, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला, राजद नेता तेजस्वी यादव, भाकपा महासचिव डी राजा और माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने भी इस पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं.

उन्होंने राष्ट्रपति से आग्रह किया कि आप भारत के राष्ट्रपति के तौर पर तत्काल हस्तक्षेप करें और भारत सरकार को निर्देश दें कि फादर स्टेन स्वामी के खिलाफ फर्जी मामले गढ़ने, जेल में रखने और अमानवीय व्यवहार के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाए.

 

Related Articles

Back to top button