Uncategorized

ब्राह्मण अपनों का विरोध करना और दहेज लेना बंद करें: कमलेश पुण्यार्क

Dhanbad: ब्राह्मण अपनो का विरोध करना बंद करें और दहेज का विरोध करें, का संकल्प आज धनबाद न्यू टाऊन हॉल में शक्लद्वीपीय सार्वभौम ब्राह्मण महासंघ के ब्राह्मणों को दिलाया गया. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कमलेश पुण्यार्क ने कहा कि वर्तमान में हमारी पीढ़ी कैसे जिये, इस पर विचार करने की जरुरत है. ब्राह्मण  अपने ही लोगों का विरोध नहीं करें, साथ ही खुद के अहंकार का त्याग करें. वर्तमान हालत में राष्ट्र तभी बचेगा जब साधू जागेंगे. संगठन को मजबूत करें और दूसरो का सहयोग करें. उन्होंने कहा कि आज भी देश में 60 प्रतिशत लोग गरीबी का दंश झेल रहे हैं. समाज की स्थिति अति दयनीय हो गयी है. उक्त बातें कमलेश पुण्यार्क ने आज धनबाद के न्यू टाऊन हॉल में आयोजित दो दिवसीय सार्वभौम शक्लद्वीपीय ब्राह्मण महासंघ,  झारखंड की विशिष्ट सभा में अपने संबोधन में कही. यह कार्यक्रम ब्राह्मणों के वर्तमान हालात और उससे उत्थान के लिए विचार-विमर्श के लिए आयोजित किया गया.

नेता और पंडित में बहुत समानता है

नेता और ब्राह्मण में बहुत समानता है. एक भाषण को बेताब रहता है तो दूसरा प्रवचन पिलाने में. भले ही भाषण दूसरे के द्वारा लिखा हो और प्रवचन कहीं और से हाल ही में सुना हो. यह बातें कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर शामिल स्वामी शैलेन्द्रानंद सरस्वती ने कही. कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि स्वामी शैलेंन्द्रानंद सरस्वती, कमलेश पुण्यार्क, पंडित ज्योतिंन्द्रा नंद, संरक्षक डॉ. एमएम मिश्रा, आदि मौजूद थे. इन सभी अतिथियों को शॉल ओढ़ा कर सम्मनित किया गया. साथ ही मग बंधु नामक पत्रिका का विमोचन भी किया गया.

इसे भी पढ़ेंः शाह ब्रदर्स मामले में सिर्फ लीज रद्द से नहीं होगा समाधान, महाधिवक्ता और अधिकारियों पर हो कार्रवाईः सरयू राय

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close