Education & CareerJharkhandRanchi

राज्य के B.Ed कॉलेजों में एडमिशन के लिए 30 अक्टूबर तक का मौका

Ranchi : झारखंड कंबाइंड एग्जामिनेशन बोर्ड ने B.Ed कोर्स में दाखिले की पहली मेरिट लिस्ट जारी कर दी है. इस लिस्ट में 11747 स्टूडेंट के नाम आए हैं. जिन स्टूडेंट्स के नाम इस लिस्ट में आए हैं वे अलॉट किए गए संस्थान में 30 अक्टूबर तक एडमिशन ले सकते हैं. झारखंड कंबाइंड एग्जामिनेशन बोर्ड की ओर से एक हफ्ते पहले एडमिशन की पूरी प्रक्रिया और शेड्यूल से संबंधित जानकारी साझा कर दी है. बताते चलें कि राज्य के स्टेट यूनिवर्सिटी के अलावा कई निजी विश्वविद्यालयों में बीएड की पढ़ाई कराई जाती है. यह 2 वर्षीय कोर्स है जहां एडमिशन के लिए झारखंड कंबाइंड एग्जामिनेशन बोर्ड ने अभी पहली लिस्ट जारी की है.

इसे भी पढ़ें :  BH Series की सुविधा के लिये झारखंड के लोगों को करना होगा इंतजार, जानें-बीएच सीरीज के फायदे हैं

advt

राज्य में साल 2019 से झारखंड कंबाइंड एग्जामिनेशन बोर्ड की ओर से एडमिशन की प्रक्रिया शुरू की गई है. इससे पहले तक सभी B.Ed कॉलेज अपने अपने स्तर पर नामांकन लेते थे. नामांकन की प्रक्रिया मेरिट बेस्ड थी. इसके बाद उच्च शिक्षा विभाग ने साल 2019 से 2 वर्षीय बीएड कोर्स में एडमिशन लेने की जिम्मेवारी झारखंड कंबाइंड एग्जामिनेशन बोर्ड को दे दी.

पहले साल यानी 2019 में एंट्रेंस टेस्ट और उसमें प्राप्त अंक के आधार पर मेरिट लिस्ट जारी करते हुए 136 बीएड कॉलेजों में एडमिशन लिया गया. इसके बाद साल 2020 में कोरोना महामारी फैलने की वजह से प्राप्त आवेदन के आधार पर मेरिट लिस्ट जारी करते हुए एडमिशन लिया गया. एक बार फिर कोरोना की दूसरे लहर को देखते हुए राज्य सरकार ने एंट्रेंस के बजाय मेरिट बेस्ड एडमिशन लेने का निर्णय लिया. एकेडमिक सत्र 2021-23 मैं इसी आधार पर एडमिशन लिया जा रहा है जिसके लिए झारखंड कंबाइंड एप्लीकेशन मंगवाया और अभी पहली मेरिट लिस्ट जारी की है.

इसे भी पढ़ें :  मनोहरपुर के दो बच्चों को बाल तस्करों से बचाया

झारखंड कंबाइंड एग्जामिनेशन बोर्ड के असिस्टेंट एग्जामिनेशन कंट्रोलर के अनुसार बीएड कॉलेजों में मेरिट के आधार पर एडमिशन लिया जा रहा है. एडमिशन के लिए कितने राउंड की काउंसलिंग होगी यह B.Ed कॉलेजों में बची हुई सीटों की संख्या के अनुसार तय होगा. गौरतलब है कि एकेडमिक ईयर 2020-22 के लिए झारखंड कंबाइंड की ओर से 5 राउंड की काउंसलिंग की गई थी. इसके बाद भी लगभग 5000 सीटें पिछले साल रिक्त रह गईं थी. इन बची हुई सीटों के लिए स्पेशल राउंड काउंसलिंग आयोजित की गई थी.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: