न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पुलिस की कार्रवाई के बाद भी नहीं रुक रही है खूंटी में अफीम खेती

पिछले दो सालों में पुलिस ने 25 से अधिक तस्करों को किया गिरफ्तार

62

Khunti: पुलिस की लाख कोशिशों के बाद भी खूंटी में अफीम की खेती हो रही है. खूंटी में अफीम की खेती को रोकना खूंटी जिला प्रशासन के लिए चुनौती बनता जा रहा है. खूंटी जिले के तीन प्रखंड व पांच थाना क्षेत्रों में बड़ी संख्या में अफीम की खेती जिला प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती बनी हुई है. पिछले दो सालों में पुलिस ने खूंटी से 25 से अधिक अफीम तस्करों को गिरफ्तार किया है. साथ ही हजारों एकड़ में फैली अफीम की फसल को नष्ट किया है.

अफीम लगाने की हो चुकी है शुरुआत

मिली जानकारी के अनुसार खूंटी में जहां एक तरफ अड़की, मुरहू, मारंगहदा और सायको थाना क्षेत्र में अफीम की खेती करने की शुरुआत अफीम तस्करों ने शुरू कर दिया है. वहीं दूसरी तरफ पुलिस ने भी वैसी जगहों पर नजर रखना शुरू कर दिया है, जहां पिछले दो वर्षों से तस्कर अफीम की खेती करते आ रहे हैं.

अफीम की खेती रोकने के लिए पुलिस ने बनाई है योजना

खूंटी में हो रही अफीम की खेती को रोकने के खूंटी पुलिस ने एक योजना बनाई है. जिस क्षेत्र में अफीम की खेती होगी वहां के स्थानीय जनप्रतिनिधि से लेकर तस्करों व किसानों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. इसके साथ ही ग्रामीणों को अफीम से संबंधित जागरुकता फैलाने का भी काम किया जा रहा है .

पिछले दो वर्षों में सौ करोड़ से अधिक का कारोबार

मिली जानकारी के मुताबिक पिछले दो वर्षों में खूंटी से सौ करोड़ से अधिक के अफीम का कारोबार हो चुका है. खूंटी पुलिस ने 1000 एकड़ में फैली अफीम की फसल को नष्ट किया और 28 से अधिक तस्कर और 28 लाख नकद समेत 20 किलो से अधिक अफीम बरामद किया. इसके बावजूद खूंटी में अफीम का कारोबार फैलता जा रहा है.

राज्य में सबसे अधिक खूंटी में होती है अफीम की खेती

झारखंड में सबसे अधिक अफीम की खेती खूंटी में होती है. झारखंड में अफीम का अफगानिस्तान खूंटी जिला को कहा जाता है. राज्य में होने वाली अफीम की कुल खेती का करीब 58% खूंटी में होता है. जानकारी के मुताबिक पुलिस और नारकोटिक्स विभाग सिर्फ वहीं तक कार्रवाई कर पाते हैं जहां तक उन्हें जाने की अनुमति मिलती है.

इसे भी पढ़ें – विधायक और सांसद मिल कर रोज ही कर रहे हैं बीजेपी की छीछालेदर, पार्टी चुप, भगवान भरोसे झारखंड में पार्टी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: