JharkhandLead NewsRanchi

देशभर के स्मार्ट शहरों में मनाया गया ओपन डाटा डे

  • डेटा के सहयोग से लोगों तक पहुंचने और उनको राहत दिलाने में हुई आसानी
  • रांची स्मार्ट सिटी की ओर से भी वेबिनार का हुआ आयोजन

Ranchi : आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर भारत सरकार के आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय की पहल पर देश के सभी स्मार्ट शहरों में ओपन डाटा डे का आयोजन किया गया. एक सप्ताह से चल रहे ओपन डाटा सप्ताह के समापन पर शुक्रवार 21 जनवरी को रांची स्मार्ट सिटी कॉरपोरेशन और रांची नगर निगम की ओर से भी एक वेबिनार का आयोजन किया गया. इस वेबिनार में ओपन डेटा के स्रोत, इसके महत्व, इसकी उपलब्धता इत्यादि पर विशेषज्ञों नें अपनी-अपनी राय रखी. रांची स्मार्ट सिटी कॉरपोरेशन के महाप्रबंधक (तक्नीकि) राकेश कुमार नंदक्योलियार नें अतिथियों का स्वागत किया और कहा कि स्मार्ट सिटी मिशन सभी शहरों में डेटा के संकलन और लोगों के लिए डेटा उपलब्धता पर लगातार काम कर रहा है.

इस अवसर पर जेवियर इन्स्टीट्यूट ऑफ सोशल सर्विसेज रांची के असिस्टेंट प्रोफेसर भवानी प्रसाद महापात्रा नें मुख्य वक्ता के रूप में डाटा की परिभाषा से लेकर उसके संकलन, उसके उपयोग और खास कर स्मार्ट सिटी की दिशा में इन डाटा के महत्व पर प्रकाश डाला.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें:ग्राम पंचायतों को 6 करोड़ और पंचायत समिति को 5 करोड़ खर्च का लक्ष्य

The Royal’s
Sanjeevani

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में ओपन डेटा से लोगों तक पहुंचने और उनको राहत दिलाने में विभिन्न एजेंसियों को काफी आसानी हुई है. उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की एजेंसियां हों या राज्य सरकार की एजेंसी, नागरिकों के लिए कई प्लेटफॉर्म पर डेटा उपलब्ध है पर जरूरत है कि लोग डाटा को लेकर जागरूक हों और उसका उपयोग सकारात्मक दिशा में करें.

रांची स्मार्ट सिटी की ओर से बिजनेस एनालिस्ट अंजना गुप्ता ने पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से ओपन डाटा पर प्रकाश डाला तो रांची निगम के चीफ डेटा ऑफिसर राजेश कुमार नें भी डाटा कैप्चरिंग और फिल्टरेशन के मॉडल पर प्रकाश डाला.

इसे भी पढ़ें:कार्मिक ने जेएसएससी को लिखा पत्र, कहा- पंचायत सचिव व निम्नवर्गीय लिपिक नियुक्ति परीक्षा करें रद्द

इस कार्यक्रम में ऑनलाईन माध्यम से एक्सआइएसएस के निदेशक अमर इरोन तिग्गा और कई छात्र, डीपीएस स्कूल के कई छात्र, रांची नगर निगम के कई पदाधिकारी और कर्मचारी, रांची स्मार्ट सिटी कॉरपोरेशन के कई पदाधिकारी, नगर विकास एवं आवास विभाग झारखंड के पदाधिकारी, यूआइडी के पदाधिकारी तथा कई संस्थानों के कर्मी शामिल हुए. कार्यक्रम आइआइआइटी रांची, केन्द्रीय विश्वविद्यालय और बीआइटी मेसरा के भी कई छात्र ऑनलाइन जुड़े.

इसे भी पढ़ें:स्मार्ट सिटीः अब तक 10 प्लॉट की हो चुकी है नीलामी

डेटा के सहयोग से नागरिक भी सरकार की नीति निर्धारण में निभा सकता सहभागिता: जयदीप पत्ती

भारतीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी संस्थान रांची के असिस्टेंट प्रोफेसर जयदीप पत्ती ने डाटा के महत्व और उपयोग पर प्रकाश डाला.

उन्होंने बताया कि डाटा के सहयोग से एक नागरिक भी सरकार द्वारा नीति निर्धारण में अपनी सहभागिता निभा सकता है. ओपन डाटा के माध्यम से नये नये बिजनेस मॉडल को विकसित किया जा सकता है जिससे समाज आर्थिक रूप से सुदृढ़ होगा.

इसे भी पढ़ें:बंधु तिर्की ने मुख्यमंत्री से सरकारी वकील के रूप में आदिवासी वकीलों को नियुक्त करने की मांग की

Related Articles

Back to top button