न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रजिस्टर्ड प्लंबर से ही होगा मीटर कनेक्शन, निगम जल बोर्ड ने तैयार किया प्रस्ताव

26

Ranchi : रांची नगर निगम अब अपनी जल बोर्ड शाखा के अंतर्गत पानी से संबंधित कार्यों और मीटर इंस्टॉलेशन के लिए रजिस्टर्ड प्लंबरों का प्रावधान करने जा रहा है. यह प्रावधान झारखंड नगरपालिका अधिनियम-2011 के तहत किया जाना है. इसके लिए जल बोर्ड शाखा ने एक प्रस्ताव बनाया है. इस प्रस्ताव को अब निगम बोर्ड की आगामी बैठक में रखा जायेगा. प्रस्ताव के तहत अधिनियम में रजिस्टर्ड प्लंबरों की नियुक्ति के प्रवाधान पर विचार करने की बात की गयी है. जल बोर्ड शाखा प्रभारी के मुताबिक, निगम बोर्ड की तरफ से इस प्रस्ताव की स्वीकृति मिलने के बाद जहां उपभोक्ताओं को कई तरह की राहत मिलेगी, वहीं भविष्य में जल बोर्ड शाखा के अधीन कार्य करनेवाले प्लंबरों के कार्यों पर कंट्रोल किया जा सकेगा. इसके अलावा मीटर कनेक्शन, इंस्टॉलेशन सहित पानी से जुड़े सभी तरह के कार्यों में पारदर्शिता आ सकेगी.

हाई कोर्ट के निर्देश पर 31 प्लंबरों को मिलेगा लाइसेंस

जल बोर्ड शाखा द्वारा इस नये प्रस्ताव का निर्णय हाई कोर्ट के उस निर्देश के आलोक में लिया गया है, जिसमें कोर्ट ने निगम को 31 प्लंबरों को फिर से सेवा में लेने का निर्देश दिया है. मालूम हो कि वर्ष 2013 में निगम बोर्ड द्वारा इन 31 प्लंबरों का लाइसेंस रद्द कर दिया गया था. लाइसेंस रद्द करने का निर्देश देते हुए निगम बोर्ड का कहना था कि अब केवल झारखंड नगरपालिका अधिनियम– 2011 के अंतर्गत रजिस्टर्ड प्लंबरों से ही मीटर कनेक्शन लगाने का कार्य लिया जायेगा. बोर्ड के निर्देश के बाद इन प्लंबरों ने अधिनियम में रजिस्टर्ड प्लंबर के लिए किसी तरह का कोई प्रावधान नहीं होने को आधार बनाकर हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी. कोर्ट ने भी उनके इस आधार को उचित माना था, जिसके बाद कोर्ट ने निगम को इन 31 प्लंबरों को वापस कार्य में लेने का निर्देश दिया था.

प्लंबरों के कार्यों पर लगायी जा सकेगी लगाम

नये प्रस्ताव की जानकारी देते जल बोर्ड शाखा के सिटी मैनेजर मृत्युंजय पांडे ने बताया कि शाखा के अधीन जो भी नये प्लंबर रजिस्टर्ड होंगे, उनके कार्यों पर लगाम लगाने के लिए उक्त नये प्रस्ताव को तैयार किया गया है. इस प्रस्ताव के तहत प्लंबरों का कार्य रेट, कैसे वे काम करेंगे आदि का सिस्टम बनाया जायेगा. साथ ही प्लंबरों के कार्यों की ऑनलाइन समीक्षा भी करने की बात नये प्रस्ताव में की गयी है. ऐसे में एक प्लंबर शहर में कितने घरों में मीटर कनेक्शन और इंस्टॉलेशन का कार्य करेंगे, साथ ही इस कार्य के लिए वे उपभोक्ताओं से कितनी राशि लेंगे, उसकी जानकारी मिलने में आसानी होगी.

उपभोक्ताओं को मिलेगी राहत

उन्होंने कहा कि आज भी शहर में ऐसे कई उपभोक्ता हैं, जिन्हें जल बोर्ड से नये मीटर कनेक्शन मिलने के बाद मीटर इंस्टॉलेशन कार्य करना पड़ता है. इस कार्य में इन उपभोक्ताओं को प्लंबरों को एक बड़ी राशि देनी पड़ती है. जिसपर लगाम लगाना जरूरी है. उपभोक्ताओं की इसी कमी को देखते हुए बोर्ड ने यह प्रस्ताव तैयार किया है.

इसे भी पढ़ें- विदिशा हत्याकांड की गुत्थी तो सुलझ नहीं सकी, अब इंसाफ मांगनेवाली छह महिलाओं को ही भेज दिया गया नोटिस

इसे भी पढ़ें- शहरों में राजस्व वसूली के लिए अब ज्यूडको लगायेगी जोर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: