Opinion

2 सीटें ही मिल पायीं, पर बढ़े हैं हमारी साख और रसूख

Vinay Bharat

Sanjeevani

आज शहर के तमाम अख़बार इस बात को समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि अगर भाजपा-आजसू साथ चुनाव लड़ती, तो जनादेश एक बार फिर से NDA सरकार के लिए आता.

MDLM

पर मेरा बिल्कुल निजी तौर से ये मानना है और फक्र है कि हम झारखंडी सवालों पर अलग होकर लड़ें. कई जगहों पर हम BJP और INC जैसी बड़ी राष्ट्रीय पार्टियों से आगे रहे. उन्हें कड़ी चुनौती दी.

हम हारे, पर पूरे झारखंड में हमारी इज्जत बढ़ी है. साख और रसूख बढ़ा है. हमने उन्हें बता दिया है कि ये झारखंड है, कि अगर आप हमें B पार्टी बोलकर खुश हैं तो आप भी समझ गए होंगे, हम भी B for BOMB पार्टी हैं.

इसे भी पढ़ें – हम शर्मिंदा हैं, हमारे प्रधानमंत्री और गृहमंत्री भी ले रहे हैं झूठ का सहारा

पिछली बार 2014 में हमने कैडर्स की कुर्बानी देकर 5 सीटें पायी थीं. इस बार हमने 2 सीटें तो पायी हैं. मगर, लगभग पूरे झारखंड में अपने कैडर्स के दिल में पनाह पाया है. चूंकि BJP के साथ सरकार में pre poll alliance में रहने की वजह से पक्ष और विपक्ष दोनों हमारे खिलाफ B PARTY के image perception को लादकर मतदाताओं को दिग्भर्मित करने में कामयाब हो जाता है.

जबकि हमने 5 वर्ष की स्थायी सरकार देने की वजह से अपने कैडर्स की आहुति दी थी. बावजूद इसके पिछले सरकार में झारखंडी आवाज़ नहीं सुनी गई. हमारी सबसे बड़ी चुनौती अपने अनवरत संघर्षों के द्वारा उनके बनाये गए perception को तोड़ना है.

इसे भी पढ़ें – भ्रष्टाचार के खिलाफ सरयू राय के क्रूसेड ने अहंकारी सत्ता को हराने में बड़ी भूमिका निभायी

मैं व्यक्तिगत तौर से आजसू पार्टी के अपने 2019 के फैसले को सलाम करता हूं. ये हमारे कैडर्स की जीत है. पिछले स्थायी सरकार में हम पार्टनर रहते हुए भी विपक्ष से ज्यादा विपक्ष की भूमिका में थे. क्योंकि कई झारखंड के असल मुद्दे विधानसभा से ग़ायब थे.

अबकी बार 2019 में आजसू पार्टी ने सदन से कमोबेश उनको ग़ायब कर दिया,  जिन्होंने सरकार में रहते हुए आजसू पार्टी के जनसरोकार को तवज्जो नहीं दी.

मैं पुनः दोहराऊंगा: 2019 में आजसू पार्टी ने 2024 की पिचिंग की है.

अबकी बार झारखंड के मुद्दे न सिर्फ उठाने वाला माटी का कम से कम 2 इंकलाबी बेटे विधानसभा में और 1 बेटा लोकसभा में मौजूद हैं, बल्कि उसके माटी के कई लाल भी बतौर कैडर्स आह्वान के इंतज़ार में रहेंगे.

साभार: विनय भरत के फेसबुक वॉल से

इसे भी पढ़ें – झारखंड में जीत से उत्साहित RJD, लालू यादव ने कार्यकर्ताओं को कड़ी मेहनत करने का दिया संदेश

डिसक्लेमरः इस लेख में व्यक्त किये गये विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गयी किसी भी तरह की सूचना की सटीकतासंपूर्णताव्यावहारिकता और सच्चाई के प्रति newswing.com उत्तरदायी नहीं है. लेख में उल्लेखित कोई भी सूचनातथ्य और व्यक्त किये गये विचार newswing.com के नहीं हैं. और newswing.com उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button