न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अमित शाह को सिर्फ काले झंडे दिखाये गये थे, शाह ने बाहर से गुंडे बुला रखे थे : टीएमसी

टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में भावुक होकर कहा, मैनें बहुत सारी प्रेस कॉन्फ्रेंस की हैं, लेकिन यह प्रेस कॉन्फ्रेंस मेरे लिए सबसे दुख भरी है.

71

Kolkata : कोलकाता में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा पर टीएमसी और भाजपा में वार-पलटवार जारी हैं.  इस क्रम में बुधवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि हिंसा भाजपा ने नहीं, बल्कि टीएमसी के लोगों ने  की थी. इसके बाद टीएमसी ने  इसका जवाब देते हुए कहा कि छात्रों ने अमित शाह को सिर्फ काले झंडे दिखाये थे, लेकिन अमित शाह ने बंगाल के बाहर से गुंडे बुला रखे थे.

टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में भावुक होकर कहा, मैनें बहुत सारी प्रेस कॉन्फ्रेंस की हैं, लेकिन यह प्रेस कॉन्फ्रेंस मेरे लिए सबसे दुख भरी है. अमित शाह ने कल हमें बहुत आहत किया. कल उन्होंने पूरे बंगाल को आहत किया.

उन्होंने कहा, कल छात्रों ने अमित शाह को सिर्फ काले झंडे दिखाये थे. कहा कि छात्र लोकतांत्रिक रूप से प्रदर्शन कर रहे थे. आरोप लगया कि अमित शाह ने बंगाल के बाहर से गुंडे बुलाये थे.  एक वीडियो दिखाते हुए कहा कि  इस वीडियो में साफ हो गया कि अमित शाह धोखेबाज हैं.

हम बेहद दुखी है, क्षुब्ध हैं प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक अन्य वीडियो दिखाते हुए टीएमसी नेता ने कहा, केंद्रीय पुलिस बल बंगाल में भाजपा के साथ काम कर रहे हैं. एक शख्स की वर्दी में तस्वीर दिखाते हुए कहा कि केंद्रीय पुलिस बल भाजपा  उम्मीदवारों के साथ बूथ में जा रहे हैं. ये लोगों से भाजपा को वोट डालने के लिए कह रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – मोदी को रोकने की कवायद, सोनिया ने विपक्षी दलों के नेताओं को फोन किया, 22-24 मई को दिल्ली बुलाया

  टीएमसी के लोग हिंसा कर रहे हैं

Related Posts

चार जजों की नियुक्ति के साथ 11 साल में पहली बार SC के जजों की संख्या 31 हुई

राष्ट्रपति द्वारा चार जजों को शपथ दिलाने के बाद 2009 के बाद पहला मौका है जब  SC  के जजों की कुल संख्या 31 हो गयी है.

इससे पहले  दि‍ल्‍़ली में प्रेस कॉन्फ्रेस में अमित शाह ने कहा कि हिंसा की खबर सुबह से थी, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की. साथ ही उन्होंने कहा कि टीएमसी के लोगों ने ही झूठ फैलाने के लिए मूर्ती तोड़ी. प्रेस कॉन्फ्रेंस ने कहा, छह चरणों में बंगाल के सिवा कहीं हिंसा नहीं हुई. ममता जी की कह रही हैं कि भाजपा हिंसा कर रही है.

ममता जी 42 सीटों पर लड़ रही हैं, हम तो देश भर में चुनाव लड़ रहे हैं. कहीं और तो हिंसा नहीं हुई. यानि साफ है टीएमसी के लोग हिंसा कर रहे हैं. लोकतंत्र की हत्या की गयी.

शाह ने कहा, हमारे पोस्टर बैनर फाड़े गये.  हमारे कार्यकर्ताओं को उकसाया गया. हमारे कार्यकर्ता चुप रहे. दो से ढाई लाख लोग रोड शो के लिए पहुंचे थे. हमला तीन बार हुआ, पत्थर, कैरोसीन ऑयल सबका प्रयोग किया. सुबह से खबर थी कि कॉलेज से लड़के हिंसा कर सकते हैं. लेकिन पुलिस ने कुछ नहीं किया.

टीएमसी के लोग कह रहे हैं कि भाजपा के लोगों ने ईश्वर चंद विद्यासागर की प्रतीमा तोड़ी. पर हम तो कॉलेज के बाहर थे. अंदर तो टीएमसी के लोग थे. ये टीएमसी के लोगों ने ही झूठ फैलाने के लिए मूर्ती तोड़ी. बहुत सारे फुटेज हैं. कॉलेज का गेट भी नहीं टूटा है.

इसे भी पढ़ें – भाजपा कार्यकर्ता प्रियंका को तुरंत रिहा क्यों न किया, ममता सरकार को SC की फटकार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: