Education & CareerJamtaraJharkhand

जामताड़ा: डीजी साथ कार्यक्रम के ऑनलाइन साप्ताहिक क्विज में छात्रों की उपस्थिति मात्र 8 प्रतिशत

  • जिले का राज्य में 23 वां रैंक

Jamtara: साप्ताहिक ऑनलाइन क्विज प्रतियोगिता परीक्षा में छात्र-छात्राएं रुचि नहीं ले रहे हैं जिस कारण जामताड़ा जिला का राज्य में 23वां रैंक में आ गया है. इसे लेकर जिला शिक्षा अधीक्षक ने सभी प्रखंड के बीईओ को पत्र भेज कर साप्ताहिक क्विज़ प्रतियोगिता परीक्षा में छात्रों की उपस्थिति बढ़ाने का निर्देश दिया है. ऐसा नही करने पर संबधित शिक्षक के विरुद्ध करवाई की अनुशंसा करने का निर्देश दिया है.

बता दें कि झारखंड शिक्षा परियोजना करोड़ों खर्च कर बच्चों के साप्ताहिक क्विज़ प्रतियोगिता परीक्षा आयोजन करती है . यह परीक्षा ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे छात्र-छात्राओं के लिए हर सप्ताह आयोजित की जाती है ताकि बच्चों के ज्ञान को परखा जा सके. सप्ताह भर छात्रों ने ऑनलाइन क्या सीखा, इसकी जांच की सके.

लेकिन जामताड़ा जिला में साप्ताहिक क्विज़ प्रतियोगिता परीक्षा में छात्रों की उपस्थिति नगण्य रहती है. इससे जिला की राज्य स्तरीय रैंकिंग में सबसे पिछले पायदान पर जगह मिली है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड के 10,810 स्ट्रीट वेंडर्स को मिला पीएम स्ट्रीट वेंडर्स निधि योजना का लाभ

वर्ग 1 से 12वीं तक के छात्रों की ली जाती है ऑनलाइन साप्ताहिक क्विज़ प्रतियोगिता परीक्षा

बता दें कि डीजी साथ कार्यक्रम के माध्यम से ऑनलाइन छात्रों की पढ़ाई होती है. इसलिए हर सप्ताह डीजी साथ कार्यक्रम के तहत छात्रों की ऑनलाइन क्विज़ प्रतियोगिता परीक्षा हर सप्ताह आयोजित की जाती है. लेकिन जामताड़ा जिला में उपास्थिति 8 प्रतिशत तक ही रहती है.

इस कारण जामताड़ा जिला का राज्य स्तरीय रैंकिंग में 23वां स्थान मिला है. इससे जिले की काफी किरकिरी हो रही है. जिला शिक्षा विभाग ने खेद व्यक्त कर सभी बीईओ को उपस्थिति सुधारने का निर्देश दिया है जबकि जिले में 30 प्रतिशत छात्र ऑनलाइन क्लास करते हैं.

इसे भी पढ़ें –सुबोधकांत के बाद अब डॉ अजय कुमार को बिहार चुनाव में बड़ी जिम्मेवारी

adv

प्रखंड वार छात्रों की उपस्थिति

  • फतेहपुर प्रखंड में   6 प्रतिशत
  • जामताड़ा प्रखंड में 15 प्रतिशत
  • कुंडहित प्रखंड  में  9 प्रतिशत
  • नाला प्रखंड में    6 प्रतिशत
  • नारायणपुर प्रखंड में 4 प्रतिशत
  • कर्माटांड़ प्रखंड में  8 प्रतिशत

क्या कहते हैं एडीपीओ

जामताड़ा एडीपीओ संजय कापरी ने कहा कि सभी बीईओ को पत्र भेजा गया है। पोषक क्षेत्र निर्धारित कर शिक्षकों को जवाबदेही सुनिशित करने को गया है. इस कार्य मे जो भी लापरवाही बरतेंगे उनके विरुद्ध कार्रवाई की जायेगी. वेतन बंद से लेकर कई प्रकार की कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें –बारिश ने आंध्र प्रदेश-तेलंगाना में भारी तबाही मचायी, 31 लोगों की मौत, एनडीआरएफ, सेना ने मोरचा संभाला

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: