JharkhandLead NewsRanchi

हॉस्टल-लॉज चलानेवाले मात्र 58 लोगों ने किया आवेदन, अब होगा एक्शन

Ranchi : रांची में हजारों की संख्या में हॉस्टल और लॉज चल रहे हैं, पर लाइसेंस लेने में संचालक इंटरेस्ट नहीं दिखा रहे हैं. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 2021-22 के लिए मात्र 58 लोगों ने आवेदन दिया है. अब सिटी में अवैध रूप से चल रहे हॉस्टल-लॉज पर एक्शन लेने की तैयारी नगर निगम कर रहा है.

जहां पहले तो हॉस्टल संचालकों पर फाइन लगाया जायेगा. इसके बाद भी वे लाइसेंस के लिए अप्लाई नहीं करते हैं तो इस बार निगम सील करने की तैयारी में है. बताते चलें कि राजधानी में 5000 के लगभग हॉस्टल-लॉज का संचालन हो रहा है.

advt

इसे भी पढ़ें :JAC ने जारी किये 12वीं के तीनों संकायों के रिजल्ट, 90.71 स्टूडेंट्स पास

27 फरवरी तक करना था आवेदन

नगर निगम ने हॉस्टल-लॉज संचालकों को आवेदन के लिए 27 फरवरी तक का समय दिया था. जिसमें कहा गया था कि बड़ी संख्या में ऐसे लॉज व हॉस्टल संचालित हो रहे हैं जिन्होंने न तो नगर निगम से से भवन का नक्शा पास कराया गया है और न ही इसके लिए कोई लाइसेंस लिया गया है.

इसके लिए एक आम सूचना जारी की गयी थी कि रांची में अवैध रूप से संचालित लॉज व हॉस्टल संचालकों को 27 फरवरी 2021 तक लाइसेंस लेने के लिए आवेदन करने की मोहलत दी गयी थी.

साथ ही कहा गया था कि इस तिथि के अंदर लाइसेंस लेने के लिए आवेदन नहीं करनेवाले संचालकों पर कार्रवाई की जायेगी. निगम के अनुसार 5000 से अधिक लॉज व हॉस्टल संचालित हो रहे हैं. जिसमें 150 लॉज व हॉस्टल संचालकों के पास नगर निगम या आरआरडीए से स्वीकृत नक्शा है.

इसे भी पढ़ें :इंटर के सभी स्ट्रीम में छात्राएं शीर्ष पर, कॉमर्स में 92.95 प्रतिशत हुईं पास

पिछले साल 190 ने लिया था लाइसेंस

लालपुर, वर्द्धमान कंपाउंड, थड़पखना, पुरुलिया रोड, पीस रोड और कोकर में ही 300 से ज्यादा हॉस्टल हैं. कोई घटना होती है तो सबकी नींद खुलती है. मोहल्ले की संकरी गलियों में भी अवैध तरीके से लॉज-हॉस्टल संचालित हो रहे हैं.

10 स्टूडेंट्स से लेकर 100 स्टूडेंट्स के रहने की व्यवस्था वाले हॉस्टल-लॉज भी चल रहे हैं. जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि हॉस्टल की संख्या शहर में काफी है. पिछले साल 190 संचालकों ने नगर निगम से लाइसेंस लिया था. इस बार तो मात्र 58 लोगों ने ही लाइसेंस के लिए आवेदन दिया है.

इसे भी पढ़ें :बारिश में डूब गयी ‘आधी रांची’, बाढ़ जैसे हालात

ऑनलाइन में भी लोग तैयार नहीं

रजिस्ट्रेशन में 1000 से लेकर 2500 रुपये का चार्ज तय है. वहीं 10 बेड से ऊपर की संख्या होने पर हॉस्टल संचालक को एक साल के रजिस्ट्रेशन के लिए 2500 रुपये देने पड़ते हैं. जबकि पांच से 10 बेड के लिए 1500 और पांच से कम संख्या होने पर एक हजार रुपये देने का नियम है. इसके बाद भी हॉस्टल संचालक रजिस्ट्रेशन कराने को तैयार नहीं हैं.

रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस के लिए बिल्डिंग प्लान के साथ कुछ शर्तों का पालन भी करने को कहा गया था. लाइसेंस जारी करने का जिम्मा रांची नगर निगम के मार्केट सेक्शन का है. वहीं नयी व्यवस्था के तहत लाइसेंस के लिए आवेदन ऑनलाइन ही किया जाना है. फिर भी लोग लाइसेंस लेने को तैयार नहीं हैं.

लाइसेंस के लिए जरूरी

  • बिल्डिंग प्लान
  • सिक्योरिटी गार्ड
  • सीसीटीवी कैमरा
  • फायर फाइटिंग

इसे भी पढ़ें :गोपालगंज में बाढ़ से परेशान हैं लोग, सरकार से राहत की कर रहे हैं मांग

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: