Education & CareerJharkhandMain SliderRanchi

इनोवेशन व आंत्रप्रेन्योर के आधार पर जारी राष्ट्रीय रैंकिंग में झारखंड के केवल 5 उच्च शिक्षण संस्थान

  • केंद्रीय शिक्षा विभाग ने जारी की रैंकिंग
Sanjeevani

Rahul Guru

MDLM

Ranchi : केंद्र सरकार के शिक्षा विभाग ने देश के उच्च शिक्षण संस्थानों की एक रैंकिंग जारी की है. यह रैंकिंग उच्च शिक्षण संस्थानों में इनोवेशन और आंत्रप्रेन्योर के माहौल के आधार पर जारी की गयी है. इस रैंकिंग में झारखंड के केवल 6 तकनीकी संस्थानों ने अपनी उपस्थिति दर्ज की है जबकि यहां का एक मात्र सेंट्रल यूनिवर्सिटी सहित राज्य के सात स्टेट यूनिवर्सिटी ने कोई रैंक हासिल नहीं की.

झारखंड से जिन संस्थानों ने रैंक हासिल की है, उसमें आइआइटी धनबाद, एनआइटी जमशेदपुर, बीआइटी मेसरा, बीआइटी मेसरा का देवघर एक्सटेंशन सेंटर और टेक्नो इंडिया की मदद से संचालित तकनीकी संस्थान शामिल हैं.

गौर करने वाली बात यह है कि बीते पांच सालों में भारत ने इनोवेशन और आंत्रप्रेन्योर में काफी उन्नति की है. ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में भारत जहां 2015 में 81वें स्थान पर था, वहीं 2019 में 51वें स्थान पर है. वहीं  ग्लोबल आंत्रप्रेन्योरशिप इंडेक्स की बात करें तो इसमें भारत की पोजिशन 78वीं है.

इसे भी पढ़ें – पुणे में 51 फीसदी लोगों में कोरोना से लड़ने के लिए एंटीबॉडी विकसित, मतलब आधी आबादी हो चुकी थी संक्रमित!

भारतीय युवकों की उपस्थिति वैश्विक स्तर पर 

विश्व में भारत की आंत्रप्रेन्योरशिप और इनोवेशन के क्षेत्र में हुई इस तरक्की में यहां के उच्च शिक्षण संस्थानों का काफी योगदान है. यहां के उच्च शिक्षण संस्थानों की वजह से ही भारतीय युवाओं की उपस्थिति वैश्विक स्तर पर दर्ज की जा रही है.

भारत सरकार के शिक्षा विभाग ने ऐसे ही उच्च शिक्षण संस्थानों की एक रैंकिंग जारी की है. इसे अटल रैंकिंग ऑफ इंस्टीट्यूशन ऑन इनोवेशन अचिवमेंट्स (एआरआइआइए) नाम दिया गया है.

इस एआरआइआइए रैंकिग में संस्थानों को 6 पारा मीटर के आधार पर रैंकिंग दी है. इन 6 पारा मीटर में पहला प्रोग्राम एंड एक्टिविटी ऑन इनोवेशन, स्टार्टअप एंड आंत्रप्रेन्योरशिप, दूसरा प्री इन्क्यूबेशन एंड इनक्यूबेशन इंफ्रास्ट्रक्चर फैसिलिटी, तीसरा एनुअल बजट, चौथा कोर्स ऑफ इनोवेशन, पांचवां इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी और छठा सक्सेसफुल इनोवेशन है. इस रैंकिंग में कुल 674 संस्थानों को शामिल किया गया है.

इसे भी पढ़ें – मनरेगा : एक ही योजना को तीन नामों से चलाकर किया जा रहा राशि का गबन

केंद्रीय शिक्षा विभाग की इस रैंकिंग में संस्थानों को दो ग्रुप में बांटा गया है.

पहला ग्रुप : पब्लिकली फंडेड इंस्टीट्यूशन

इसमें तीन सब ग्रुप हैं-

– नेशनल इंपोर्टेंट के संस्थान, सेंट्रल यूनिवर्सिटी, सीएफटीआइ

– स्टेट यूनिवर्सिटी और डीम्ड यूनिवर्सिटी

– गवर्नमेंट कॉलेज/गवर्नमेंट एडेड

दूसरा ग्रुप : प्राइवेट या सेल्फ फिनांस्ड इंस्टीट्यूशन

इसमें दो सब ग्रुप हैं-

– प्राइवेट यूनिवर्सिटी

– प्राइवेट कॉलेज सब ग्रुप में बांटे गये हैं.

इस रैंकिंग में झारखंड के उच्च शिक्षण संस्थानों की बात करें तो यहां से केवल पांच तकनीकी संस्थानों ने ही स्थान पाया है. इसमें आइआइटी (आइएसएम) धनबाद पब्लिकली फंडेड इंस्टीट्यूशन के सब ग्रुप नेशनल इंर्पोटेंट के शैक्षणिक संस्थान/सेंट्रल यूनिवर्सिटी/सीएफटीआइ कैटेगरी में रैंक 11 से 25 के बीच आया है. इसी सब कैटेगरी में एनआइटी जमशेदपुर की रैंकिंग 26 से 50 के बीच आयी है.

वहीं गवर्नमेंट और गवर्नमेंट एडेड कॉलेज/इंस्टीट्यूशन की रैंकिंग कैटेगरी में बीआइटी और टेक्नो इंडिया की मदद से संचालित राज्य के इंजीनियरिंग कॉलेज 6 से 25 की रैंकिंग में स्थान पाया है. इसी तरह बीआइटी का देवघर एक्सटेंशन सेंटर प्राइवेट या सेल्फ फिनांस्ड कॉलेज कैटेगरी में 26 से 50वें रैंक में स्थान बना पाया है.

इसे भी पढ़ें – नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला गिरफ्तार, शिक्षा विभाग के कई कर्मियों पर भी शक

7 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button