JharkhandRanchiTODAY'S NW TOP NEWS

गैर सेवा से IAS बनने में एक साल की देरी, 2018 के रिक्त पदों के लिए बढ़ी तिथि

Ranchi : गैर सेवा से आइएएस संवर्ग में प्रोन्नति पाने में एक साल की देरी होगी. 2018 के लिये गैर सेवा से आइएएस के तीन पदों पर प्रोन्नति दी जानी है. इसके लिये अब राज्य सरकार ने विभागों  से आवेदन प्राप्त करने की तिथि बढ़ा दी है. पहले विभागों से अनुशंसा प्राप्त करने की तिथि 15 अप्रैल 2019 रखी गई थी.

लेकिन लोकसभा चुनाव को देखते हुए अब इसकी तिथि बढ़ाकर 31 मई 2019 कर दी गई है. इस संबंध में 18 अप्रैल को कार्मिक विभाग ने आदेश जारी कर दिया. जारी आदेश में कहा गया है कि गृह विभाग को छोड़कर सभी विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, सचिव और विभागाध्यक्ष ऐसे राजपत्रित पदाधिकारियों की योग्यता के आधार पर अधिकतम तीन पदाधिकारियों का चयन विभागीय चयन समिति के माध्यम से कराकर 31 मई तक अनुशंसा भेजें.

इसे भी पढ़ें – नक्सलवाद खत्म होने का सीएम का दावा गलत, बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए सरकार जिम्मेवार  :  राजेश…

advt

तीन पद के लिए भेजे जायेंगे 15 नाम

गैर सेवा से आइएएस में प्रमोशन के लिए एक पद के विरुद्ध पांच गुणा नाम भेजा जाता है. वर्तमान में तीन पदों में प्रोन्नति दी जानी है. इसलिए तीन पदों के विरुद्ध 15 नामों की अनुशंसा विभागों द्वारा की जायेगी. विभाग और राज्य सरकार के स्तर से परफॉरमेंस आंकने के बाद अंतिम पड़ाव यूपीएससी होता है.

यूपीएससी अफसरों का इंटरव्यू लेती है. अनुशंसित अफसरों की उम्र सीमा एक जनवरी 2018 तक 56 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए. 2017 की रिक्ति के खिलाफ गैर सेवा के दो अफसरों को आइएएस संवर्ग में प्रोन्नति मिली थी. इसमें योजना विभाग के माधव शरण सिंह और श्रम विभाग के प्रभात कुमार शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – गांडेय के महेशमरवां में पुलिस व अपराधियों के बीच मुठभेड़, दो अपराधी गिरफ्तार

क्या है कार्मिक विभाग का आदेश

कार्मिक विभाग ने आदेश जारी कर सभी विभागों के अध्यक्षों से कहा है कि गैर सेवा से आइएएस में प्रमोशन के लिए अब विशेष चारित्री (स्पेशल सीआर) मान्य नहीं होगी.

adv

अब आइएएस के लिए अनुशंसित अफसर को पिछले सात साल की पूर्ण अद्यतन कांफिडेंशियल रिपोर्ट (सीआर) (मूल में अथवा अभिप्रमाणित) देनी होगी. साथ ही यह भी प्रमाणित करना होगा कि अनुशंसित अफसर की चारित्री (कांफिडेंशियल रिपोर्ट ) निर्धारित मापदंड के अनुसार पूर्ण हो. यदि एक दिन की भी रिपोर्ट नहीं लिखी गई हो तो उसे भी पूर्ण करना होगा.

इसे भी पढ़ें – सीएम रघुवर दास का खुलेआम विरोध, ‘रोड नहीं तो वोट नहीं’, ‘Go Back’ के लगे…

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button