न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक ऐसे चिकित्सक जो बिना दवा दिये करते हैं मरीजों का इलाज

मिट्टी, पानी, धूप, हवा और आकाश से दूर करते हैंं मर्ज

974

Chandan Choudhary

Ranchi: कोई भी बीमारी होने पर हमारे मन में तुरंत दवा लेने का विचार आता है. किसी दोस्त या परिजन से बातें शेयर करने पर भी हमें दवा लेने की ही सलाह दी जाती है. डॉक्‍टर से इलाज कराने पर वो दवाओं की लंबी सूची पर्ची पर लिख देते हैं. लेकिन, इन सब के बीच एक ऐसे शख्‍स ऐसा भी हैं जो बिना किसी दवाईयों के हर प्रकार के मर्ज की इलाज करने का दावा करते हैं. इनका कहना है सिर्फ मिट्टी, पानी, धूप, हवा व आकाश से ही किसी भी बीमारी का इलाज हो सकता है. इनका नाम है डॉ सुरेंद्र नारायण सिंह, जो साधु के नाम से ज्‍यादा जाने जाते हैं. मूल रुप से दरभंगा बिहार के रहने वाले डॉ सिंह अब रांची में रहकर अपनी सेवा आरंभ करना चाहते हैं.


डॉ साधु का कहना है कोई ऐसी बीमारी नहीं है कि जिसे प्रकृति द्वारा दिए अमूल्य खजाने से दूर नहीं किया जा सकता है. प्रकृति ने हमे पेट भरने के साथ-साथ स्वस्थ रहने के भी संसाधन मुहैया कराया है. लेकिन, लोग जानकारी के अभाव में अंग्रेजी दवा की ओर भागते हैं. लोगों को यह नहीं पता की अंग्रेजी दवा बीमारी तो ठीक कर देती है, लेकिन अंदर ही अंदर शरीर को कमजोर भी बना देती है. इससे कई अनेक बिमारियों का जन्म हो जाता है.

नैचरोपैथी पद्धति से करते हैं इलाज

डॉ सुरेंद्र नारायण सिंह उर्फ साधु ने बताया कि वे न तो एलोपैथी और न ही होमियोपैथी बल्कि नेचुरोपैथी पद्धति से रोगी का इलाज करते हैं. उनका कहना है कि यह पद्धति चार हजार वर्ष पुरानी है और इसे जर्मनी में ही इजाद किया गया था. लेकिन लोग इस पद्धति को भूलकर अंग्रेजी दवाओं की ओ ज्यादा भागने लगे. डॉ सिंह यह दावा करते हुए कहते हैं कि नेचुरोपैथी पद्धति में नेचर द्वारा दिए गए अमूल्य संसाधानों के माध्यम से रोगी को बिल्कुल स्वस्थ्य किया जा सकता है. लेकिन, इसके लिए रोगी को भी अपना पूरा मर्ज बताना होगा है. साथ ही जबतक मरीज पूरी तरह स्वस्थ न हो जाय उनकी बातों को मानता रहेगा. डॉ साधु रोग के अनुसार रोगी का आहार तैयार करते हैं, पानी की मात्रा तय कर देते हैं, धूप और हवा भी उचित मात्रा में देकर प्रकृति की पंचमहाभूत तत्व के सहारे से रोगी का रोग ठीक करने का प्रयास करते हैं.

इसे भी पढ़ेंःप्रणव नमन कंपनी ने अच्छी क्वालिटी के कोयले में मिलाने के लिए कटकमसांडी रेलवे कोल साइडिंग में जमा कर रखा है हजारों टन चारकोल (देखें व पढ़ें ग्राउंड रिपोर्ट)

 बीपी, डायबटीज, आदि सभी बीमारियों का होता है इलाज

palamu_12

डॉ सिंह दावा करते है कि वे बीपी की समस्या को 72 घंटे में ठीक कर सकते हैं. इसके अलावा डायबटीज, चर्म रोग, रक्त रोग, गठिया, दमा, मलेरिया, गैस, सर्दी-बुखार, खांसी, टायफायड, सभी बीमारी का इलाज करते हैं. दरभंगा में हजारों मरीजों को स्वस्थ कर चुके हैं. पाचन तंत्र मजबूत बनाकर शरीर का शुद्धिकरण किया जाता है. बड़ी आंत की सफाई कर एवं जरुरत अनुसार भोजन और पानी का सेवन के लिए कहा जाता है. इन्हीं सब उपायों से रेागी को रोगमुक्त कर दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें – IAS अफसरों का बड़ा तबका महसूस कर रहा असहज, ऑफिसर ने बर्खास्त होना समझा मुनासिब, लेकिन वापसी मंजूर…

जटिल बीमारी हो सकती है पूरी तरह ठीक

डॉ साधु ने बताया कि प्राकृतिक उपचार से वह सभी तरह बीमारियों को भी हमेशा के लिए ठीक की जा सकती है, जिसके लिए दूसरे डॉक्‍टर अक्‍सर जिंदगी भर दवा खाने की हिदायत देते हैं. जैसे डायबटीज, थायराइड, मिरगी आदि ऐसी बिमारियां है जिनके लिए एलोपैथिक चिकित्सक जिंदगी भर दवा खाने का परामर्श देते हैं. लेकिन नैचरोपैथ में इन बिमारियों को भी जड़ से समाप्त करने की शक्ति है. इसके अलावा कैंसर जैसे गंभीर बीमारी यदि पहली या दूसरी अवस्था में हो तो उसे भी पूरी तरह ठीक किया  जा सकता है. शर्त सिर्फ इतना है कि शरीर का कोई हिस्सा गला न हो और न ही शरीर के हिस्से को कांट-छांट कर निकाला न गया हो.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: