न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भेलवाघाटी मुठभेड़ में मारे गये तीन नक्सलियों में से एक का भाई पहुंचा शव लेने, नक्सली मानने से किया इनकार

गिरिडीह सदर अस्पताल में भाई ने कहा - दो साल पहले सेना में बहाली के लिए आवेदन कर चुका था

440

Giridih: भेलवाघाटी के भतुआकुडा गांव में नक्सलियों और सीआरपीएफ के बीच हुई मुठभेड़ में अब नया मोड़ आ गया है. मुठभेड़ में जिन तीन नक्सलियों को मार गिराने का दावा गिरिडीह पुलिस ने किया है. फिलहाल उसमें एक मृतक का भाई सह जमुई के चकाई भाग संख्या एक का जिप सदस्य रामलखन मुर्मू घटना के दूसरे दिन मंगलवार की देर शाम गिरिडीह सदर अस्पताल पहुंचा. जहां उसने दावा किया कि उसका भाई मानिकचंद मुर्मू कोई नक्सली नहीं है. बल्कि दो साल पहले वह सेना बहाली की दौड़ प्रतियोगिता में सफल रह चुका है.

इसे भी पढ़ें – पलामू: कुख्यात बंधु शुक्ला गिरोह के दो शूटरों ने किया सरेंडर, पुलिस लेगी रिमांड पर

Sport House
Related Posts

सोनुवा में पत्थलगड़ी समर्थक और विरोधियों के बीच हिंसक झड़प,  सात के मरने की खबर, दो लापता

घटना गुलीकेरा ग्राम पंचायत के बुरुगुलीकेरा गांव की है. सूचना है कि हत्या करने के बाद सभी लोगों के शव गांव के पास स्थित जंगल में फेंक दिये गये हैं.

एसपी ने निर्गत किया था चरित्र प्रमाण पत्र

पत्रकारों से बातचीत के क्रम में रामलखन ने कई दस्तावेज भी दिखाये. इनमें उसके भाई को जमुई एसपी ने सेना बहाली के दौरान चरित्र प्रमाण पत्र निर्गत किया था. जिप सदस्य रामलखन ने यह भी कहा कि उसका भाई बीते रविवार की देर रात अपने घर चकाई थाना क्षेत्र के बेहरा गांव से यह कहते हुए निकला था कि वह झारखंड के सीमावर्ती गांव में संथाली आर्केस्ट्रा देखने जा रहा है. लेकिन दूसरे दिन सोमवार को उसकी गोली लगने से मौत की जानकारी मिली.

इसे भी पढ़ें – झरिया के हमीद नगर में अवैध मिनी गन फैक्टरी का उद्भेदन, सील

Mayfair 2-1-2020
SP Deoghar

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like