NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ का एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन

शिक्षकों ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उपायुक्त ने युक्तिकरण सूची को रद्द नहीं किया तो शिक्षा व्यवस्था को पूरी तरह ठप कर दी जायेगी

64

 Ranchi : अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ जिला इकाई द्वारा प्राथमिक शिक्षकों के नियम विरूद्ध युक्तिकरण पदस्थापना के विरोध में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया गया. प्रदर्शन राजभवन के समक्ष किया गया. शिक्षकों ने सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला. चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उपायुक्त ने युक्तिकरण सूची को रद्द नहीं किया तो शिक्षा व्यवस्था को पूरी तरह ठप कर दी जायेगी. संघ के प्रदेश अध्यक्ष विजेंद्र चौबे ने कहा कि नियम विरूद्ध शिक्षकों के युक्तिकरण में  जामताड़ा, हजारीबाग, कोडरमा जिला में भारी गड़बड़ी हुई है.

युक्तिकरण के आड़ में शिक्षकों का सामूहिक स्थानांतरण का खेल किया जा रहा है जो गुणवतापूर्ण शिक्षा के बाधक है. श्री चौबे ने कहा कि मौजूदा सरकार में नौकरशाही पूरी तरह हावी है, अधिकारियों के आचरण व्यवहार तथा अफसरशाही प्रवृति से शिक्षक समाज त्रस्त है.

इसे भी पढ़ें :रांची : सुरक्षा और कानून को ताक में रख कर युवतियां चलाती है. दोपहिया वाहन

शिक्षकों का कर दिया गया सामूहिक स्थानांतरण

विजेंद्र चौबे ने बताया कि नियमों के अनुसार 1688 शिक्षकों का ही युक्तिकरण किया जाना था, लेकिन ऐसा न कर सामूहिक स्थानांतरण कर दिया गया. उन्होंने कहा कि युक्तिकरण विद्यालयवार व प्रखंड में ही करना है. जबकि यहां एक तरफ से प्रखंड से शिक्षकों को हटाया जा रहा तथा दूसरे प्रखंडों में शिक्षकों को उसी प्रखंड में लाया जा रहा है;  यह कैसा युक्तिकरण है? प्रदेश महासचिव राममुर्ति ठाकुर ने कहा कि शिक्षकों का युक्तिकरण के बाद उन्हें दूरस्थ पदस्थापित करना विभागीय दिशा निर्देशों के विपरीत है. विभागीय प्रधान सचिव के पत्र से यह स्पष्ट है कि वर्तमान में प्रखण्ड स्तरीय युक्तिकरण किया जाना है, लेकिन इसे अनदेखी कर अन्तरप्रखंडीय बना कर शिक्षक-शिक्षिकाओं को प्रताड़ित किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःपुलिस महकमे के एक खास वर्ग का नौकरशाही में वर्चस्व, राष्ट्रपति से शिकायत

madhuranjan_add

विद्यालयों को किया जा रहा शिक्षक विहीन

संघ के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता नसीम अहमद ने कहा कि अधिकारी नौनिहालों के भविष्य को लेकर घड़ियाली आंसू बहाते हैं और दूसरी तरफ शिक्षकों को युक्तिकरण के नाम पर विद्यालय को शिक्षक विहीन किया जा रहा है. दुर्भावना से प्रेरित व पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर गृह प्रखण्ड छोड़कर दुरस्थ स्थानों और नक्सल प्रभावित क्षेत्र में शिक्षकों का सामूहिक स्थानातंरण किया जा रहा है. जिससे छात्रों का भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है यह चिंता का विषय है. . प्रदर्शन का संचालन वरीय उपाध्यक्ष अनूप केशरी ने किया.

इस अवसर पर उपाध्यक्ष हरे कृष्ण चैधरी, संतोष कुमार, संजय कुमार, देवी प्रसाद मुखर्जी, नेहाल सलीम, मदन स्वांसी, योगेन्द्र द्ववेदी, अमित कुमार, प्रकाश चन्द्र साद, रेणु कुमारी, रंजीत मोहन, सतिस बड़ाईक व अन्य शिक्षक-शिक्षिकाएं मौजूद थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: