न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक करोड़ के इनामी नक्सली सुधाकरण ने पत्नी नीलिमा संग किया सरेंडर, आधिकारिक पुष्टी नहीं

बूढ़ा पहाड़ इलाके में सक्रिय माओवादी सुधाकरण पर झारखंड पुलिस की ओर से एक करोड़ का इनाम रखा गया था.

276

Ranchi : एक करोड़ के इनामी नक्सली सुधाकरण और उसकी पत्नी 25 लाख रुपए की इनामी नीलिमा ने तेलंगाना में आत्मसमर्पण कर दिया है. हालांकि नक्सली सुधाकरण और उसकी पत्नी के सरेंडर करने पर झारखंड पुलिस की ओर से कोई आधिकारिक पुष्टी नहीं की गयी है. बूढ़ा पहाड़ इलाके में सक्रिय माओवादी सुधाकरण पर झारखंड पुलिस की ओर से एक करोड़ का इनाम रखा गया था. वहीं उसकी पत्‍नी नीलिमा पर भी 25 लाख का इनाम घोषित किया गया था. जानकारी के मुताबिक,  तेलंगाना में आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को जेल भेजने का प्रावधान नहीं है, बल्कि उनपर लगे सभी चार्ज वापस कर दिए जाते हैं.

 तेलंगाना के अदिलाबाद का रहने वाला है नक्सली सुधाकरण

नक्सली सुधाकरण माओवादियों की सेंट्रल कमेटी का सदस्य है. सुधाकरण को ओगू सतवाजी, बुरयार, सुधाकर और किरण सहित कई छद्म नामों से जाना जाता है. सुधाकरण तेलंगाना के अदिलाबाद का रहने वाला है. नक्सली सुधाकरण पर एक करोड़ का इनाम घोषित है. सुधाकरण ने झारखंड में लेवी के रुपए से काफी संपत्ति भी अर्जित कर रखी है. गृह विभाग के आदेश पर पुलिस ने बूढ़ा पहाड़ के 29 कुख्यात नक्सलियों पर पांच लाख रूपये से लेकर एक करोड़ तक इनाम की घोषणा की थी. इनमें नक्सली नेता सुधाकरण पर एक करोड़ और उसकी पत्नी नीलिमा पर 25 लाख रूपये का इनाम रखा गया था. सुधाकरण की पत्नी नीलिमा तेलंगाना के वरांगल की रहने वाली है.

पुलिस के सामने किए हैं कई अहम खुलासे

Related Posts

राज्य के सभी 36 हजार सरकारी स्कूलों में बनाये जायेंगे सोक पिट, गर्मियों में काम आयेगा पानी

कल बनायें, जल बचायें अभियान : स्कूल प्रबंधन समिति, स्थानीय पंचायत और जनप्रतिनिधियों के आपसी सामंजस्य से होगा निर्माण

SMILE

मिली जानकारी के मुताबिक, सुधाकरण और उसकी पत्नी नीलिमा ने तेलंगाना में आत्मसमर्पण कर दिया है. साथ ही पुलिस के सामने दोनों ने कई अहम खुलासे भी किये हैं. लेकिन अब तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है. झारखंड पुलिस की ओर से भी कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. हालांकि इस बाबत पुलिस के कई अधिकारियों से भी बात करने की कोशिश की गई, लेकिन कोई पुष्टी नहीं की गयी है.

इसे भी पढ़ें – सरयू राय पत्र प्रकरणः BJP विधायकों ने कहा लिखनी चाहिये थी चिट्ठी, कुछ ने कहा सभी शिकायतों की जांच…

इसे भी पढ़ें – लातेहार मॉब लिंचिंग: पीड़ित परिवार को न मुआवजा, न नौकरी और आयोग ने लिख दिया संतुष्ट है परिवार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: