Ranchi

कुणाल के ‘बपौती’ शब्द के इस्तेमाल पर, प्रतुल ने कहा- यही है जेएमएम का ‘राजनीतिक चरित्र’

Ranchi: जेएमएम के विधायक कुणाल षाडंगी के ‘भाजपा की बपौती नहीं है’ विधानसभा वाले बयान पर भाजपा प्रवक्ता ने आपत्ति जतायी है. प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा है कि जनप्रतिनिधियों को अपनी जुबान पर संयम रखना चाहिए, लेकिन झामुमो के राजनीतिक कल्चर में शायद शिष्टाचार और संयम शब्द ही नहीं है. प्रतुल शाहदेव ने कहा है कि इस तरह के बयान राजनीतिक मर्यादाओं का उल्लंघन है. उन्होंने कुणाल षाड़ंगी पर निशाना साधते हुए कहा विवादास्पद बयान देने के लिए कुणाल पहले से ही विख्यात हैं. उन्होंने ही कहा था कि विधानसभा परिसर में ही शराब की दुकान खोलनी चाहिए.

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि कुणाल षाडंगी शायद भूल जाते हैं कि विधानसभा अध्यक्ष के आसन पर उनकी पार्टी के विधायक पौलुस सुरीन ने ही जूता उछाला था और बाहर निकल कर कहा था कि उन्हें इस घटना के लिए कोई खेद नहीं है. शाहदेव ने इस आरोप को पूरी तरह से गलत बताया कि एग्रीकल्चर समिट से सरकार ने कुछ हासिल नहीं किया है. उन्होंने कहा कि विधायक जी को थोड़ा अध्ययन करना चाहिए क्योंकि एग्रीकल्चर समिट के दौरान कई बड़े निवेश पर एमओयू हुए हैं. इन निवेशकों से हजारों बेरोजगारों को नौकरी भी मिलेगी.

क्या कहा था कुणाल ने

विधानसभा सत्र के बाद का पत्रकारों को बयान देते हुए झामुमो के विधायक कुणाल षाडंगी ने कहा था कि झारखंड विधानसभा भारतीय जनता पार्टी की बपौती नहीं है कि हम बैठकर उनके तमाशे को देखें. उन्होंने कहा कि 2014 चुनाव के बाद भाजपा को राज्य की जनता ने छह ट्रेलर दिखा चुकी है. बाकि फिल्म आनेवाले लोकसभा और विधानसभा के चुनाव में दिखा देगी. सदन में आपके पास बहुमत है. इसका ये मतलब नहीं है कि आप सदन में कोई भी निर्णय ले लीजिएगा और कहियेगा कि विपक्ष सहयोगात्मक रवैया अपनाये.

इसे भी पढ़ें: भाजपा की बपौती नहीं है विधानसभा कि हम बैठकर उनके तमाशे को देखें: कुणाल षाड़ंगी

advt

इसे भी पढ़ें: शीतकालीन सत्रः पहले दिन 1117.12 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: