न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आंदोलन के नाम शिक्षकों ने मनाया वीकेंड, कई विभागों से प्रोफेसर नदारद

एआइफुक्टो ने विश्वविद्यालय में रहकर ही आंदोलन का किया था आग्रह

412

Ranchi: रांची विश्वविद्यालय समेत राज्य के सभी विश्वविद्यालयों व कॉलेजों के शिक्षक शुक्रवार को अपनी मांगों के समर्थन में एआइफुक्टो के आवाह्न पर सामूहिक अवकाश पर रहे.

इसे भी पढ़ें-इग्नू के तकनीकी कोर्स में एआईसीटीई मान्यता जरूरी नहीं : सुप्रीम कोर्ट

आंदोलन के नाम पर विश्वविद्यालय नहीं पहुंचे शिक्षक

एआइफुक्टो के महासचिव प्रो एलके कुंदन ने कहा कि आंदोलन के दौरान विवि के सभी शिक्षकों से आग्रह किया गया था कि वे सीएल के रूप में सामूहिक अवकाश लें, लेकिन विभाग और कॉलेजों में अपनी उपस्थिति दर्ज रखें, ताकि आंदोलन को बल मिल सके. आंदोलन के दौरान रांची विश्वविद्यालय में शुक्रवार को अलग ही नजारा देखने को मिला. विवि के अधिकतर शिक्षक आंदोलन के नाम पर विश्वविद्यालय पहुंचे ही नहीं. ज्यादात्तर विभागों में ताले लटके हुए थे. कई विभागों में तो एक-दो ही शिक्षक विभागों में उपस्थिति दिखें.

 डिपार्टमेंट में पसरा सन्नाटा
डिपार्टमेंट में पसरा सन्नाटा

इसे भी पढ़ें-बंद नहीं होगी, बदलेगी एचईसी की तस्वीरः एटॉमिक एनर्जी डिपार्टमेंट करेगा टेकओवर !

शिक्षकों ने मनाया वीकेंड

रांची विश्वविद्यालय के शिक्षकों ने आंदोलन के नाम पर जमकर सरकार छूट्टी जैसा आंनद मनाया. दर्शनशास्त्र विभाग में केवल प्रो सरस्वती मिश्रा ही उपस्थित थीं. उन्होंने कहा कि विभाग में मेरे अलाव कोई शिक्षक नहीं है. ऐसा लगता है मानो शिक्षक वीकेंड मना रहे हैं. आंदोलन की वजह से कई शिक्षकों ने छात्रों को भी आज विभाग आने से मना कर दिया था. इतिहास विभाग में प्रो. राजकुमार ने बताया कि आंदोलन की वजह से शिक्षक विभागों में कम ही हैं. ज्यात्तर प्रोफेसर छूट़्टी का आनंद ले रहे हैं. पॉलटिकल साइंस विभाग में प्रोफेसर जेपी सिंह और प्रो एलके कुंदन ही उपस्थित थे. प्रो एनके कुंदन ने कहा कि शिक्षकों को विभागों में रहकर प्रदर्शन करना चाहिए था, ताकि आंदोलन को बल मिलता.

इसे भी पढ़ेंःमीडिया पर संपूर्ण नियंत्रण का इरादा अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: