न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सावन की अंतिम सोमवारी पर शिवालयों में शिव भक्तों की उमड़ी भीड़

केला घाट शिव मंदिर एवं सलडेगा सरना शिव मंदिर में भगवान शिव का किया जलाभिषेक

467

Simdega: सावन की अंतिम सोमवारी पर शहरी क्षेत्र एवं ग्रामीण क्षेत्र के शिवालयों में आज अहले सुबह से ही शिव भक्तों की भीड़ देखी गई. सावन के अंतिम सोमवारी के अवसर पर हजारों की संख्या में कांवरिया शहर से लगभग 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित शंख नदी से जल उठा कर शहरी क्षेत्र के केला घाट शिव मंदिर एवं सलडेगा सरना शिव मंदिर में भगवान शिव का जलाभिषेक किया.

इसे भी पढ़ेंः बाबा भोले पर जलार्पण करने पहुंचे सात बच्चे डूबे, दो सुरक्षित- पांच की तलाश जारी

शंख नदी में हजारों की संख्या में कांवरिए

शहरी क्षेत्र के नीचे बाजार दुर्गा पूजा मंडप में रात्रि को भोजन की व्यवस्था कावड़िया संघ द्वारा कांवरियों को कराई गई. यहां पर रात्रि विश्राम के बाद अहले सुबह शंख नदी में हजारों की संख्या में कांवरिए गये. शंख नदी से जल उठा कर बोल बम के नारों के साथ बाबा भोलेनाथ की गीतों पर थिरकते हुए झूमते हुए केला घाट शिव मंदिर एवं सरना शिव मंदिर पहुंचे. यहां पर बोल बम के नारों के साथ भगवान शिव का कांवरियों ने जलाभिषेक किया. सावन के अंतिम सोमवारी के अवसर पर मुख्य रूप से शहरी क्षेत्र के केला घाट शिव मंदिर, सलडेगा सरना शिव मंदिर, गुलजार गली शिव मंदिर, शामटोली शिव मंदिर, शिव नगर शिव मंदिर, महावीर चौक शिव मंदिर, राम जानकी मंदिर शिव मंदिर के अलावा अन्य शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ आज सुबह से ही देखने को मिली. हर तरफ गेरुआ वस्त्र पहने शिवभक्त नजर आ रहे थे. ग्रामीण क्षेत्रों में करंगागुड़ी शिव धाम, रामरेखा धाम के अलावे अन्य शिव मंदिरों में भी भगवान शिव का जलाभिषेक कर पूजा अर्चना की गई. शंख नदी से जल उठाने के क्रम में कांवरियों को सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराने के लिए एसपी संजीव कुमार के निर्देश पर पुलिस बल एवं गस्ती बल को तैनात किया गया था.

इसे भी पढ़ेंः फांसी के फंदे से लटकी मिली विवाहिता की लाश, हत्या की आशंका

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: