JharkhandMain SliderRanchi

एनोस की पत्नी मेनन की जिस जमीन को ईडी ने किया था जब्त, उस पर चल रही है नर्सरी

Ranchi : झारखंड पार्टी के पूर्व विधायक एनोस एक्का की पत्नी मेनन एक्का की ओरमांझी स्थित जमीन पर नर्सरी संचालित हो रही है. यह वही संपत्ति है, जिसे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की तरफ से 26 सितंबर 2018 को जब्त किया गया था. जब्त की गयी जमीन पर नर्सरी सुचारू रूप से चल रही है. एक्का कंस्ट्रक्शन की तरफ से नर्सरी चलाने का एग्रीमेंट 31 मई 2017 को किया गया था. नर्सरी के मालिक का नाम राजेश कुमार मेहता बताया जाता है. यह शालीमार सदाबहार नर्सरी के संचालक हैं, जो रामगढ़ के रहनेवाले हैं. इन्हें 20 वर्षों के लीज पर 60 एकड़ जमीन दे दी गयी है. पहले तीन वर्ष तक प्रत्येक वर्ष पांच लाख रुपये और इसके बाद दस लाख रुपये का सलाना राजस्व देने की शर्त पर एग्रीमेंट किया गया है. इसमें कहा गया है कि 60 एकड़ जमीन के अंदर एसबेस्टस के कमरे, दो काउशेड, बोरिंग, तालाब और कुछ अन्य निर्माण कार्य भी हैं.

एनोस की पत्नी मेनन की जिस जमीन को ईडी ने किया था जब्त, उस पर संचालित हो रही है नर्सरी

एनोस एक्का ने पत्नी के नाम से खरीदी थी जमीन

एनोस एक्का ने अपनी पत्नी मेनन एक्का के नाम से ओरमांझी में यह जमीन खरीदी थी. एनोस ने यह जमीन मंत्री रहते चार दिसंबर 2006 और एक अगस्त 2007 को पत्नी के नाम से खरीदी थी. इसमें एक्का ने ग्राम करमा, थाना अंचल ओरमांझी, जिला रांची का पता दिया था. यह जमीन बकास्त भुईहरी जमीन है. इसे ओरमांझी अंचल के तत्कालीन अंचल अधिकारी, तत्कालीन अंचल निरीक्षक और तत्कालीन हल्का कर्मचारियों की मिलीभगत से बेचा गया था.

कितनी जमीन खरीदी गयी थी ओरमांझी प्रखंड के नेवरी मौजा में

रांची के ओरमांझी प्रखंड स्थित नेवरी मौजा के थाना नंबर 45 के अंतर्गत खाता नंबर 35, 32, 45, 34, 39 के साथ-साथ प्लॉट नंबर 449, 451, 446, 455, 458, 445, 487, 468, 492, 493, 495, 496, 497, 498, 502, 503, 504, 457, 466, 467, 497, 387, 388, 389, 390, 496 की कुल रकबा 60 एकड़ जमीन है. इसकी पत्थर से चहारदीवारी की गयी है. जमीन की एक ओर एनएच-33 है. भूमि की पश्चिम एवं उत्तर दिशा में खेत दर्शाया गया है. वहीं, दक्षिण में नाला दिखाया गया है. मेनन एक्का के नाम पर इस जमीन की खरीद में सीएनटी एक्ट के प्रवधान का भी उल्लंघन किया गया था.

इसे भी पढ़ें- कोलेबिरा उपचुनावः मेनन एक्का को मिला गुरुजी का आशीर्वाद

इसे भी पढ़ें- किस गलती की सजा भुगत रहे 52 लाख बच्चे : सुदेश महतो

Advt

Related Articles

Back to top button