न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा की बंपर जीत पर ममता ने ट्विटर पर एक कविता पोस्ट की, आई डोन्ट एग्री…

मैं बंगाल में उठे विनम्र पुनर्जागरण काल की एक विनम्र सेवक हूं. मैं धार्मिक आक्रामकता बेचने पर यकीन नहीं रखती, मैं इंसानियत के धर्म पर यकीन रखती हूं.

536

NewDelhi : 2014 के मुकाबले 2019 में भाजपा के आश्चर्यजनक प्रदर्शन के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने ट्विटर पर एक कविता पोस्ट कर अपना दुख व्यक्त किया है. कविता का शीर्षक है, आई डोन्ट एग्री… यानी मैं सहमत नहीं हूं. हिन्दी, अंग्रेज़ी और बंगाली में लिखी इस कविता में तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने कहा है कि वह सांप्रदायिकता और धार्मिक आक्रामकता बेचने पर यकीन नहीं रखती हैं.

भले ही उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया, लेकिन उनका इशारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की ओर था. ममता पीएम और शाह पर  बार-बार धर्म के नाम पर ध्रुवीकरण करने का आरोप लगाती रही हैं.

Mayfair 2-1-2020

इसे भी पढ़ें- रविवार को गुजरात जायेंगे पीएम मोदी, मां हीराबेन से मिलेंगे, काशी भी जायेंगे

Related Posts

# CAA_Violence : देश के 154 प्रबुद्ध नागरिक राष्ट्रपति से मिले, CAA के विरोध में हिंसा करने वालों पर कार्रवाई का आग्रह

ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने वालों में राज्यसभा के पूर्व महासचिव योगेंद्र नारायण, केरल के पूर्व मुख्य सचिव सी वी आनंद बोस, पूर्व राजदूत जी एस अय्यर, पूर्व रॉ प्रमुख संजीव त्रिपाठी, आईटीबीपी के पूर्व महानिदेशक एस के कैन, पूर्व सेना उपप्रमुख एन एस मलिक जैसी कई प्रमुख हस्तियां शामिल हैं.

हर धर्म में आक्रामकता और सहिष्णुता है

ममता ने लिखा, मैं सांप्रदायिकता के रंग में यकीन नहीं रखती. हर धर्म में आक्रामकता और सहिष्णुता है. मैं बंगाल में उठे विनम्र पुनर्जागरण काल की एक विनम्र सेवक हूं. मैं धार्मिक आक्रामकता बेचने पर यकीन नहीं रखती, मैं इंसानियत के धर्म पर यकीन रखती हूं. ममता बनर्जी की कविता में पश्चिम बंगाल के सातों चरणों के मतदान के दौरान हुई हिंसा पर, कोलकाता की सड़कों पर अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई झड़पों और अन्य घटनाओं का ज़िक्र है.

पश्चिम बंगाल में भाजपा को बड़ी जीत हासिल हुई है

लंबे वक्त तक वामपंथ का गढ़ रहने के बाद तृणमूल कांग्रेस का गढ़ बने पश्चिम बंगाल में भाजपा को बड़ी जीत हासिल हुई है. 2014 में दो सीटों वाले भाजपा ने अपनी सीटों की संख्या में भारी सुधार करते हुए इस बार राज्य की 42 लोकसभा सीटों में 18 पर जीत दर्ज़ की. ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस ने 22 सीटें जीतीं हैं. पिछले दो सालों में भाजपा की पश्चिम बंगाल सरकार के साथ कई बार टकराव हो चुका है. विशेष रूप से धार्मिक आयोजनों के दौरान होने वाली  रैलियों और मार्चों को लेकर ऐसे टकराव आम थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने बंगाल में पूरी आक्रमकता के साथ प्रचार किया.  मोदी और ममता बनर्जी ने कई बार एक दूसरे को अलग-अलग नाम दिये और एक दूसरे पर जमकर आरोप लगाये. जहां मोदी ने ममता को स्पीड-ब्रेकर दीदी की संज्ञा दी, वहीं ममता ने जवाब में उन्हें एक्सपायरी बाबू बताया था.

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक शुरू, राहुल कर सकते हैं इस्तीफे की पेशकश, हार के कारणों पर होगा मंथन

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like