न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

ट्रेड यूनियनों की हड़ताल के दूसरे दिन 138 मजदूर और 300 किसान हुए गिरफ्तार

45
  • हड़ताल के दूसरे दिन प्रभावित रहा कामकाज, कई जगहों पर की गयी गिरफ्तारी
  • राजधानी में रही मिली-जुली प्रतिक्रिया, एचईसी में आंशिक असर
mi banner add

Ranchi : 12 सूत्री मांगों को लेकर ट्रेड यूनियनों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का दूसरे दिन बुधवार को भी प्रभाव देखा गया. देश की विभिन्न यूनियनों की ओर से घोषित देशव्यापी हड़ताल का दोनों दिन राज्य में असर देखा गया. हड़ताल के दूसरे दिन बुधवार को भी निर्माण कार्य, मिड डे मील, सरकारी कर्मचारियों समेत अन्य क्षेत्रों में कामकाज ठप देखा गया. हालांकि, एचईसी में इसका पूर्ण असर नहीं देखा गया, जबकि कोयला, इस्पात, बीड़ी, पत्थर, सीमेंट समेत बैंककर्मी, बीमा, डाक, दूरसंचार समेत सभी क्षेत्रों में काम ठप देखा गया. हड़ताल में शामिल यूनियनों ने दो दिनों की इस हड़ताल को पूरी तरह सफल बताया है. वहीं, हड़ताल के दूसरे दिन राज्य के विभिन्न हिस्सों में प्रदर्शन कर रहे मजदूरों पर कार्रवाई की गयी. इस दौरान राज्य भर से 138 मजदूरों को गिरफ्तार किया गया. राज्य से लगभग एक करोड़ मजदूर इस हड़ताल में शामिल हुए थे, जिन्होंने राजधानी रांची समेत अन्य जिलों में भी जुलूस निकालकर विरोध प्रदर्शन किया.

किसानों पर की गयी कार्रवाई

पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत किसानों ने भी हड़ताल को समर्थन दिया था. राज्य में लगभग दो लाख किसान इस हड़ताल में शामिल हुए, जिन्होंने गांव बंद रखा. साथ ही रेलवे और मुख्य सड़कों को भी बंद किया. इस दौरान लगभग 300 किसानों को मार्ग बाधित करने के दौरान गिरफ्तार किया गया.

सरकारी कर्मचारियों ने किया विरोध प्रदर्शन

दूसरे दिन विभिन्न क्षेत्रों के सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों ने कथित श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया. इसमें बैंक के साथ आयकर, बीमा, केंद्रीय कर्मचारियों ने सड़क पर प्रदर्शन किया.

Related Posts

मंत्री लुईस मरांडी के विधानसभा क्षेत्र में डोभा के पानी से प्यास बुझा रहे ग्रामीण

14 सरकारी कुआं फिर भी गांव प्यासा, सड़क कई वर्षों से अधूरी, डोभा को कुआं का रूप देने का प्रयास कर रहे ग्रामीण

श्रम विरोधी नीति समाप्त करे सरकार

श्रम संगठनों ने मांग की कि श्रम विरोधी नीतियों पर केंद्र सरकार रोक लगाये. 44 श्रम कानून को समाप्त कर 4 कोड पर रोक लगाना इस हड़ताल की मुख्य मांग है. सीटू ने बयान जारी कर कहा कि सरकार इस हड़ताल को नजरअंदाज न करे, नहीं तो आनेवाले समय में मजदूर ही सरकार को जवाब देंगे. मजदूरों के हितों को ध्यान में रखते हुए जल्द से जल्द सरकार निर्णय ले.

इसे भी पढ़ें- प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत सभी राशनकार्डधारियों को मिलेगा रसोई गैस कनेक्शन : सरयू राय

इसे भी पढ़ें- राज्य सरकार ने केंद्र को सौंपी रिपोर्ट, कहा- एक भी मौत नहीं हुई भूख से

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: