NEWS

नेपोटिज्म पर जॉन ने कहा- छाती पीटना और रोना मेरी फितरत नहीं, मैंने अपनी जगह खुद बनायी

Mumbai : सुशांत सिंह राजपूत की मौत ने बॉलीवुड में नेपोटिज्म के बहस को नयी दिशा दी है. कई कलाकारों ने कहा कि बॉलीवुड में ऐसे कई ताकतवर और प्रभावशाली लोग हैं जो भाई भतीजावाद को बढ़ावा देते हैं. उनकी वजह से बाहर से आने वाले ऐसे कलाकार जिनका कोई गॉडफादर नहीं है उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. कंगना रनौत सहित कई और सितारों ने भी इस मामले पर अपनी राय बेबाकी से रखा है. अब इस मामले पर जॉन अब्राहम की प्रतिक्रिया भी सामने आयी है. जॉन भी उन लोगों में से है जो मुंबई में एक आउटसाइडर के तौर पर आए और अपने बूते अपनी पहचान बनायी.

इसे भी पढ़ें : क्या चीन भारत में लोगों की जासूसी करवा रहा है ?

advt

हर किसी को अपनी लड़ाई खुद लड़नी होती है

जॉन ने हाल में मीडिया के साथ बातचीत में कहा था कि मैं इन टैग्स से अपने आपको दूर रखना पसंद करता हूं. ये आपके ट्विटर ट्रेंडिंग कल्चर का हिस्सा हैं. जॉन ने कहा- हर इंसान, चाहे वो इनसाइडर हो या आउटसाइडर, उसे अपनी खुद की लड़ाई लड़नी पड़ती है. चाहे आप इस चीज को लेकर शांति से निपटे या फिर इस चीज को लेकर दिल में कड़वाहट रखें, लेकिन आपको ये फाइट लड़नी ही होती है. हर इंसान को कोई ना कोई चीज प्रूव करनी होती है. वे कहते हैं कि, या तो आप इस चीज को लेकर शिकायत करते रहें, या शांति से अपने काम पर फोकस करें. मैं इस चीज को लेकर साफ हूं कि मैं यहां अपना काम करने आया है और मैं उसी को करने में विश्वास रखता हूं. 

इसे भी पढ़ें : सीएम नीतीश से पीएम मोदी, ‘रघुवंश प्रसाद की आखिरी चिट्ठी में जो है, उसे पूरा करना है’

 

adv

अपना रास्ता खुद बनाए

इंडस्ट्री में शुरूआती अनुभवों के बारे में जॉन ने कहा कि अगर आपको मौके नहीं मिलते हैं, तो आप अपना रास्ता खुद बनाते हैं. क्या मैं इस बात को लेकर निराशा महसूस करता हूं कि इंडस्ट्री के किसी कलाकार को मुझसे ज्यादा मौके मिले हैं? बिल्कुल नहीं. मुझे खुशी है कि मैंने अपनी संभावनाएं खुद बनाईं. मुझे खुद को लेकर आत्म विश्वास है. अगर मौके नहीं मिले तो मैं भी रो सकता था और अपनी छाती पीटकर कह सकता था कि मेरे साथ अन्याय हुआ है. लेकिन मेरा यह तरीका नहीं है. मेरा मानना है कि अगर आपको मौके नहीं मिले तो आप अपने मौके खुद बनाएं. अगर आप इस दुनिया से ताल्लुक नहीं रखते तो अपनी खुद की दुनिया बनाइए. 

इसे भी पढ़ें : संसद का मॉनसून सत्र शुरू, मोदी की विपक्ष से अपील- जवानों के साथ एकजुट रहिये

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: