JharkhandRanchi

सच्चाई की बात की तो ढाई आदमी की सरकार बनी खलनायक: कीर्ति आजाद

‘नाग की तरह कुंडली मार कर देश के खजाने में बैठे हैं वित्त मंत्री अरूण जेटली.’

पीएम मोदी पर कहा- जब वे गुजरात प्रचार को जाते थे, तो वे उन्हें लेने स्टेशन आते थे.

Ranchi: भाजपा से कांग्रेस में शामिल हुए कीर्ति आजाद ने धनबाद से उम्मीदवार बनाए जाने पर खुशी जाहिर की. साथ ही कीर्ति झा आजाद ने पार्टी में दोबारा आने को अपना सौभाग्य बताया है.

झारखंड को अपनी कर्मभूमि बताते हुए वो भाजपा पर हमलावर दिखे. उन्होंने कहा कि भाजपा के सांसद रहते हुए उन्होंने कई बार गंभीर भ्रष्टाचार के मुद्दे पार्टी केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष रखे.

इसे भी पढ़ेंःकहीं ‘राम’ की वजह से ‘टहल’ ना जाये रांची में ‘बीजेपी’

अरुण जेटली पर निशाना

भ्रष्टाचार के मुद्दे पर उनकी बातों को अनदेखा करने का आरोप उन्होंने लगाया. ‘न खाऊंगा-न खाने दूंगा’ की बात करने वाले मोदी सरकार को घेरते हुए कीर्ति आजाद ने कहा कि आज जिस पीएम मोदी को आप जानते है, उन्हें वे तब से जानते है, जब वे गुजरात में चार जिलों के महासचिव थे.

जब वे भाजपा का प्रचार करने गुजरात जाते थे, तो मोदी उन्हें लेने स्टेशन आते थे. 26 साल निःस्वार्थ भाव से उन्होंने पार्टी की सेवा की, लेकिन जब 2004 से 2014 तक दिल्ली में बन रहे क्रिकेट स्टेडियम में हुए 400 करोड़ घोटाले की बात केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष उठायी, तो उन्हें पार्टी से ही निलबिंत कर दिया. मोदी-शाह और जेटली पर निशाना साधते हुए उन्होंने मोदी सरकार को  ढाई आदमी वाली सरकार बताया.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड में पहले चरण के दौरान दर्ज हुए आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के 347 मामले, 34 प्राथमिकी भी

वित्त मंत्री अरूण जेटली को पूरे मामले का आरोपी बताते हुए कहा कि आज यही आदमी नाग की तरह कुंडली मार कर देश के खजाने में बैठा हुआ है, वही इस षड्यंत्र का सबसे बड़ा खिलाड़ी था. उसी ने इस पूरी हेराफेरी को दबाते हुए उनके विरूद्ध शकुनि का काम किया.

नैतिकता के आधार पर क्षेत्र में न घूमे सीएम, केवल थू-थू होगी

मोदी सरकार को घेरते हुए कांग्रेस उम्मीदवार ने कहा कि इन पांच सालों में इस सरकार ने न तो 2 करोड़ नौकरियां देने की बात को पूरा किया. न ही 15-15 लाख रूपये आम लोगों के खाते में लाने की कोई पहल की.

कालाधन लाने, स्मार्ट शहर बनाने, डिजिटल इंडिया जैसे वादों को पूरा नहीं किया जा सका. दरअसल अपने सभी वायदों में मोदी और रघुवर सरकार फिसड्डी साबित हुई.

सीएम रघुवर दास के बिजली पर किये वायदे (कि अगर 2018 के अंत तक जनता को 24 घंटे बिजली नहीं मिलेगी, तो वे वोट नहीं मांगेंगे) को याद दिलाते हुए कहा कि इसे अबतक पूरा नहीं किया जा सका है. नैतिकता के आधार पर तो सीएम को क्षेत्र में घूमना ही नहीं चाहिए. क्यों ऐसा करने से भाजपा वालों की केवल थू-थू ही होगी.

इसे भी पढ़ेंःमुरी हादसा : कास्टिक तालाब धंसने के 40 घंटे बाद मलबा हटाने का काम शुरू, NDRF की टीम जुटी

14 सीटों पर जीत सुनिश्चित करेगा महागठबंधन

महागठबंधन उम्मीदवार बनाये जाने पर प्रशंसा जाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि जेएमएम, जेवीएम के सहयोग से राज्य के सभी 14 लोकसभा सीट पर यह अपनी जीत सुनिश्चित करेगी.

इस दौरान धनबाद में कांग्रेस पार्टी को समर्थन दिये जाने के लिए माओइस्ट कॉर्डन कमेटी के नेता आनंद महतो, अनुप चटर्जी का धन्यवाद किया. साथ ही कहा कि आगामी 20 अप्रैल को वे धनबाद सीट से अपना नामांकन भरेंगे. इसके लिए उन्होंने हेमंत सोरेन, बाबूलाल मरांडी को अपने नामांकन में आने का न्यौता दिया.

भागलपुर दंगा के समय उनके पिता नहीं थे सीएम, अधूरी है जानकारी

धनबाद से उम्मीवार बनाए जाने पर अल्पसंख्यक समुदाय द्वारा किये जा रहे विरोध पर कहा कि उनकी जानकारी अधूरी है. उनके पिता मार्च 1989 तक ही बिहार के सीएम थे. जबकि भागलपुर दंगा 1989 के अंत में हुआ, उस समय बिहार के सीएम सत्येंद्र नारायण सिन्हा थे.

धनबाद क्षेत्र में बिजली-पानी की समस्या को उठाते हुए कहा कि आज भाजपा सरकार में यहां के कई फैक्ट्रियों को बंद कर दिया गया. कइयों का प्राइवेटाइजेशन कर दिया और किया जा भी रहा है. इसमें दामोदर वैली परियोजना, बोकारो प्लांट प्रमुखता से शामिल है. कीर्ति आजाद ने कहा कि इन्हीं मुद्दे को लेकर वे धनबाद के लोगों के पास जायेंगे और वोट मांगेंगे.

इसे भी पढ़ेंःचौकीदार के कारण आखिर क्यों ग्रामीण बना माओवादी, जानिए सबजोनल कमांडर प्रदीप सिंह चेरो की पूरी कहानी

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close